कन्हैया कुमार ने साफ किया की वह नहीं लड़ेंगे बिहार विधानसभा चुनाव

0

बिहार विधानसभा चुनाव में काफी दिनों से यह बात चल रही थी कि वामपंथी नेता और जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार इस बार बिहार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे या नहीं इस पर उन्होंने स्वयं इनकार कर दिया है।
कन्हैया कुमार ने बिहार विधानसभा चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है और कहा है कि पार्टी से उन्हें जो भी कार्य दिया जाएगा वह उसका निर्वाहन करेंगे, वह इंतजार कर रहे हैं कि कब पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के आदेश के साथ वह बिहार वापस लौटे और पार्टी के लिए प्रचार प्रसार शुरू करें।
सीपीआई के वरिष्ठ नेता शत्रुघ्न प्रसाद सिंह से जब पत्रकारों ने कन्हैया कुमार के पार्टी प्रचार में शामिल होने की बात पूछी तो उन्होंने कहा कि वह जल्द ही पार्टी का प्रचार प्रसार शुरू करेंगे।
एक निजी टीवी शो में कन्हैया कुमार से जब महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर हो रहे देरी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि यह हमेशा होता है और उन्हें उम्मीद है कि समय आने पर सब कुछ साफ हो जाएगा। महागठबंधन की ओर से तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री के तौर पर प्रस्तुत करने के बारे में जब कन्हैया कुमार से पूछा गया तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि यह जाहिर सी बात है कि गठबंधन में जो सबसे बड़ी पार्टी होगी मुख्यमंत्री चेहरा भी उसी का होगा लेकिन हम लोग न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर बात करते हैं।
क्या बिहार में सरकार बदलेगी? इस सवाल पर कन्हैया कहते हैं कि दूर से बैठ कर परिणाम का अंदाजा नहीं लगाया सकता. काफी वक्त से दिल्ली में रह रहे कन्हैया ने कहा कि जल्द ही वह पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के आदेश से बिहार लौटेंगे और विधानसभा चुनाव में अपनी भूमिका निभाएंगे.
बता दें कि पिछले बिहार विधानसभा चुनाव में 6 वामपंथी दलों ने गठबंधन में चुनाव लड़ा था. सीपीआई और सीपीएम अपना खाता नहीं खोल पाई थी, जबकि सीपीआई एम-एल को तीन सीटें मिली थी. इस बार महागठबंधन में तीन प्रमुख वामपंथी दल- सीपीआई, सीपीआई (एम) और सीपीआई (एमएल) महागठबंधन के साथ चुनाव मैदान में जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here