गुरु का राशि परिवर्तन इन राशि की लड़कियों के विवाह में कराएगा देरी

0
76

जयपुर। कल गुरु ग्रह ने राशि परिवर्तन किया है। गुरु के राशि परिवर्तन के कारण ग्रहों पर इसका प्रभाव पड़ेगा। जिसके कारण लोग भी प्रभावित होंगे कई राशियों के लिए गुरु का राशि परिवर्तन शुभ फलदेय़ तो कुछ राशि के लोगो के लिए राशि परिवर्तन अशुभ फलदेय हो सकता है। गुरु पुनर्वसु, विशाखा और पूर्वाभाद्र पद नक्षत्र के स्वामी होते हैं। आज इस लेख में गुरु के राशि परिवर्तन के बारे में बता रहें हैं।

इस बार गुरु के राशि परिवर्तन के कारण तीन राशि के लोगो को उनके विवाह में देरी करा सकता है। गुरु का राशि परिवर्तन होने से गुरु तुला राशि से निकल कर अपने मित्र मंगल की राशि वृश्चिक में प्रवेश कर गये हैं। जिसके कारण विवाह योग्य कन्याओं जिनकी राशि में गुरु चौथे, आठवें और बारहवें भाव में हैं उनको विवाह में देरी करा सकता है।

इसके साथ ही वृश्चिक राशि मंगल की राशि मानी जाती है। मंगल गुरु मित्र ग्रह हैं। इस राशि परिवर्तन के दौरान गुरु सिंह राशि में चौथे,  मेष राशि में 8वें और धनु राशि में 12वें भाव में भ्रमण करेंगे। जिसके कारण इन राशि की लड़कियो के विवाह में देरी होगी।

वहीं मिथुन, कन्या, वृश्चिक, कुंभ राशि के लोग की राशि में गुरु पूज्य स्थान पर हैं। जिसके कारण इन राशि की लड़कियों का विवाह गुरु की शांति पूजा कराने के बाद सम्पन्न किया जा सकता है।गुरु ग्रह को सारे ग्रहों में प्रधान माना जाता है। इसके साथ ही गुरु एक राशि में 13 महीने तक भ्रमण करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here