जोहान्सबर्ग टेस्ट : दक्षिण अफ्रीका ने पाकिस्तान को दिया 381 का लक्ष्य

0
77

क्विंटन डी कॉक (129) और हाशिम अमला (71) की बेहतरीन पारियों के दम पर दक्षिण अफ्रीका ने यहां खेले जा रहे तीसरे और आखिरी टेस्ट मैच के तीसरे दिन रविवार को 303 रन का मजबूत स्कोर बना लिया। दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में 262 रन का स्कोर बनाया था और उसने पाकिस्तान को उसकी पहली पारी में 185 रन पर समेटकर 77 रन की बढ़त हासिल कर ली थी। दक्षिण अफ्रीका ने इस तरह पाकिस्तान के सामने जीत के लिए 381 रनों का लक्ष्य रख दिया है।

पाकिस्तान ने इसके जवाब में दिन का खेल समाप्त होने तक तीन विकेट पर 153 रन बना लिए हैं। पाकिस्तान को अभी जीत के लिए 228 रन और बनाने हैं जबकि उसके पास दो दिन और सात विकेट बचे हैं।

स्टंप्स के समय असद शफीक 48 और बाबर आजम 17 रन बनाकर नाबाद लौटे। शफीक और आजम के बीच चौथे विकेट के लिए अब तक 49 रन की साझेदारी हो चुकी है। इमाम उल हक ने 35, शान मसूद ने 37 और अजहर अली ने 17 रन का योगदान दिया।

दक्षिण अफ्रीका की ओर से डेल स्टेन को दो और डुआने ओलिवर को एक विकेट मिले हैं।

इससे पहले, दक्षिण अफ्रीका ने अपने कल के स्कोर पांच विकेट पर 135 रन से अगे खेलना शुरू किया। हाशिम अमला ने 42 और डी कॉक ने 34 रन से आगे अपनी पारी को बढ़ाया।

अमला ने अपना अर्धशतक और डी कॉक ने शतक पूरा किया। डी कॉक का यह चौथा शतक है। उनके अलावा टेम्बा बवूमा ने 23, कप्तान एडेन मारक्रम ने 21, कगिसो रबादा ने 21 और वर्नोन फिलेंडर ने 14 रन बनाए।

पाकिस्तान की ओर से फहीम अशरफ और शादाब खान ने तीन-तीन जबकि मोहम्मद आमिर को दो और मोहम्मद अब्बास तथा हसन अली को एक-एक विकेट मिले।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleकॉलेजियम ने जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और संजीव खन्ना को सुप्रीम कोर्ट में जज बनाने की सिफारिश की
Next articleन्यायमूर्ति सीकरी ने सीसेट के पद से अब इंकार किया
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here