झारखंड : रियायत के बाद शहर से ज्यादा कस्बे गुलजार, महंगी हुई शराब

0

कोरोना संक्रमण के दौर में ‘लॉकडाउन-4’ में राज्य में मिली रियायत के बाद राज्य के नगर निगम के क्षेत्रों से ज्यादा कस्बे और ग्रामीण क्षेत्र गुलजार हैं। इस बीच सरकार ने शराब की बिक्री प्रारंभ कर दी है। सरकार ने शराब की कीमतों में वृद्घि करते हुए ‘होम डिलिवरी’ की सुविधा दी है। इधर, उद्योगों के खुलने के आदेश के बाद कुछ इकाइयों में काम शुरू हो चुका है। सरकार ने औद्योगिक क्षेत्र में औद्योगिक गतिविधियां, निर्माण कार्य, इससे जुड़ी सभी सामग्री मसलन ईट, सीमेंट, छड़, गोदाम, माल गोदाम को खोलने और ट्रांसपोर्टेशन में छूट दी है, जबकि सरकार के आदेश के बाद हार्डवेयर, बिजली, सेनेटरीवेयर, ग्लास, प्लाइवुड, टाइल्स व टिंबर की दुकानें भी खुल गई है।

किताबें व स्टेशनरी की दुकानें भी गुलजार हुई हैं। इधर, नगर निगम क्षेत्र को छोड़कर पूरे जिले में मोबाइल, घड़ियां, इलेक्ट्रनिक्स जैसे टेलीविजन, सूचना प्रौद्योगिकी (आइटी) से जुड़े उत्पाद जैसे कंप्यूटर, रेफ्रीजरेटर, एयर कंडीशनर, कूलर आदि की दुकानें खुलने से शहर से ज्यादा कस्बों और ग्रामीण क्षेत्रों में बाजार गुलजार हैं।

इस बीच, रांची में औद्योगिक गतिविधियां प्रारंभ हो गई हैं। रांची के कोकर, तुपुदाना, टाटीसिलवे, नामकुम की दो दर्जन से अधिक फैक्ट्रियों में कर्मचारी पहुंचने लगे हैं और उत्पादन के पूर्व गतिविधियां प्रारंभ कर दी है।

हालांकि , उद्यमी बाजार बंद होने के कारण संशय की स्थिति में हैं। उद्यमियों का कहना है कि बाजार बंद होने से सामानों की मांग कहां होगी। कुछ उद्यमी हार्डवेयर, निर्माण कार्य प्रारंभ होने से आशान्वित भी दिखे।

झारखंड चैंबर ऑफ कॉमर्स के महासचिव धीरज तनेजा भी कहते हैं, “कोई भी उद्यमी यह नहीं चाहेगा कि वह अपने कामगारों को बैठाकर वेतन दें। उम्मीद है कि अब कंपनियां धीरे-धीरे खुलेंगी। निर्माण कार्य प्रारंभ होने से मजदूरों को काम मिलेगा और बाजार गति पकड़ेगा।”

इधर, सरकार ने शराब बिक्री प्रारंभ करने का निर्णय लिया है। बुधवार से शराब बिक्री प्रारंभ हो गई, हालांकि लोगों को पहले की तुलना में इसके लिए ज्यादा पैसे चुकाने पड़ रहे हैं। राज्य सरकार ने शराब की कीमतों में 25 फीसदी तक की वृद्घि कर दी है। राज्य में शराब की बिक्री सुबह सात बजे से शाम सात बजे तक तीन माध्यमों से जाएगी। इसमें काउंटर सेल, होम डिलिवरी और ई-टोकन सिस्टम शामिल हैं।

उत्पाद आयुक्त विनय चौबे ने बताया कि राज्य के नौ बड़े शहरों में दुकानों से और जोमैटो तथा स्वीगी से शराब की होम डिलिवरी होगी। इन शहरों में रांची, बोकारो, धनबाद, देवघर, गिरिडीह, जमशेदपुर, हजारीबाग, रामगढ़ और मेदिनीनगर शामिल हैं। आने वाले दिनों में होम डिलिवरी चलाने वाली और भी कंपनियों को जोड़ा जाएगा।

उन्होंने बताया, “15 जिला मुख्यालयों में शराब की बिक्री दुकानों से और ई-टोकन सिस्टम से भी की जाएगी जबकि ग्रामीण इलाकों में शराब की बिक्री सिर्फ दुकानों से ही होगी।”

उत्पाद आयुक्त ने बताया कि शराब में वैट 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 75 प्रतिशत कर दिया गया है। साथ ही स्पेशल एक्साइज डयूटी 10 प्रतिशत बढ़ाया गया है। उन्होंने कहा कि शराब दुकानदारों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाना अनिवार्य किया गया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleRealme Narzo 10 का पहला स्टॉक सिर्फ दो मिनट में खाली, बिके इतने स्मार्टफोन
Next articleगर्मी में शरीर के बढ़ते तनाव को कम करने के लिए, आप इन आसान उपायों का करें इस्तेमाल
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here