जद(एस) ने कांग्रेस के भारत बंद का समर्थन किया

0
41

कर्नाटक में सत्तारूढ़ जनता दल (सेकुलर) एक सहयोगी के रूप में कांग्रेस के सोमवार को भारत बंद का समर्थन करेगा। यह बंद तेल कीमतों में बेतहासा वृद्धि के खिलाफ आहूत किया गया है।

जद (एस) के एक पदाधिकारी ने यहां रविवार को आईएएनएस से कहा, “हमारी पार्टी ने ईंधन कीमतों में भारी वृद्धि और केंद्र की राजग सरकार की अन्य जनविरोधी नीतियों के खिलाफ कांग्रेस के भारत बंद का समर्थन करेगी।”

चूंकि जद(एस)-कांग्रेस गठबंधन सरकार आधिकारिक रूप से बंद से नहीं जुड़ सकती, इसलिए पार्टी विरोध प्रदर्शनों और राज्य के शहरों व कस्बों में आयोजित होने वाली रैलियों में कांग्रेस के साथ शामिल होगी।

पदाधिकारी ने कहा, “पार्टी नेता और कार्यकर्ता ईंधन कीमतों में भारी वृद्धि और डॉलर के मुकाबले रुपये की कमजोरी के खिलाफ सोमवार को शहर के मध्य टाउन हाल और सभी जिला मुख्यालयों पर जमा होंगे।”

गठबंधन सहयोगी विपक्षी नेताओं के खिलाफ सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग के दुरुपयोग के खिलाफ भी प्रदर्शन करेंगे।

पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा नई दिल्ली में अन्य विपक्षी नेताओं के साथ एक विरोध रैली और सभा में शामिल होंगे।

सूर्योदय से सूर्यास्त तक के इस बंद के मद्देनजर पुलिस ने पूरे राज्य में सुरक्षा चुस्त कर दी है, खासतौर से बेंगलुरू में। सुरक्षा के मद्देनजर संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त बल तैनात किए गए हैं और प्रमुख प्रतिष्ठानों पर चौकसी बढ़ा दी गई है।

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, “शांतिपूर्व विरोध प्रदर्शनों और रैलियों की अनुमति रहेगी, लेकिन हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।”

कांग्रेस की राज्य इकाई के अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव ने समर्थन के लिए जद(एस) को धन्यवाद देते हुए कहा कि बंद पूरी तरह सफल होगा, क्योंकि अन्य दलों, व्यापार संघों और कई संघों और संगठनों ने विरोध प्रदर्शन में शामिल होने पर सहमति जताई है।

राव ने यहां संवादताओं से कहा, “कन्नड़ समर्थक संगठनों के अलावा व्यापार संघों और बसों, टैक्सियों और ऑटो संघों ने भी हमारे बंद का समर्थन किया है, क्योंकि ईंधन कीमतों में वृद्धि के कारण वे बुरी तरह प्रभावित हैं।”

पार्टी ने दूध और पानी की आपूर्ति, दवा की दुकानों, अस्पतालों, मेट्रो और छोटे दुकानदारों को बंद से बाहर रखा है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here