जयंत सिन्हा ने मॉब लिंचिंग के दोषियों का स्वागत करने पर मांगी माफी

0
59

जयपुर। केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने कुछ दिनों पहले लिंचिंग के मामले में निचली अदालत से दोषी पाए जाने वालो का माला पहनाकर स्वागत किया था। जिसके बाद से जयंत सिन्हा की आलोचना हो रही थी। झारखण्ड के एक लिंचिंग के मामले में निजी अदालत ने जिन्हें आरोपी माना था उनको उच्च अदालत ने जमानत दी थी, जिसके बाद जयंत सिन्हा ने उनका माला पहनकर स्वागत किया। सोशल मीडिया पर स्वागत की फोटो आने के बाद कई लोगों ने सिन्हा के इस कदम की निंदा की और उनके पिता और पूर्व मंत्री यशवंत सिन्हा ने भी अपने बेटे के इस कदम को गलत बताया।

जयंत सिन्हा के इस कदम से नाराज हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के एक पूर्व छात्र प्रतीक कंवल ने ऑनलाइन एक पेटीशन शुरू कर दी। जिसमें उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष से जयंत सिन्हा के एल्युमनी स्टेट्स (पूर्व छात्र की पदवी) वापस लेने की मांग की गई है। इस पेदिशन को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी समर्थन दिया।

पेटीशन शुरू करने वाले प्रतिक कंवल का कहना है की मॉब लिंचिंग के आरोपियों का माला पहनाकर स्वागत करने की घटना से पूरा देश सदमे में है और इस देश का एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते में इस घटना का विरोध करता हूं और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी का एक पूर्व छात्र होने के नाते हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के अध्यक्ष से निवेदन करता हूं की वो जयंत सिन्हा का एल्युमनी स्टेट्स वापस ले ले। बता दे इस पेटीशन से पहले कांग्रेस ने जयंत सिन्हा का मंत्री पद से इस्तीफा भी मांगा था।

आपको बता दे की जयंत सिन्हा 1992 हार्वर्ड बिजनेस स्कूल के छात्र रहे है।

वहीं अपने स्वागत करने की घटना से चारों तरफ से विरोध आता देख बुधवार को जयंत सिन्हा ने दोषियों का स्वागत करने के लिए माफ़ी मांगी। जयंत सिन्हा ने कहा कि “मैं पहले भी कह चुका हूं की दोषियों को सजा होंगी और अगर मेरे द्वारा उनका सम्मान करने से ये सन्देश गया है की मैं मॉब लिंचिंग का समर्थन करता हूं तो मै इस बात के लिए मांफी मांगता हूं”।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here