फिल्म रिव्यू: भावुक कर देगी लखनऊ की ‘गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल’ की संघर्ष की कहानी

0
Gunjan Saxena The Kargil Girl

फिल्म: गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल
कलाकार: जाह्नवी कपूर, पंकज त्रिपाठी, अंगद बेदी, मानव विज, रीवा अरोरा, आयशा रजा मिश्रा, मनीष वर्मा और विनीत कुमार
निर्देशक: शरण शर्मा
ओटीटी प्लेटफार्म: नेटफ्लिक्स
रेटिंग: तीन स्टार

काफी समय से चर्चित जाह्नवी कपूर के करियर की दूसरी फिल्म गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल रिलीज हो गई है। गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल एक बयोपिक फिल्म है जिसकी कहानी कारगिल युद्ध में शामिल हुई गुंजन सक्सेना की जिंदगी पर आधारित है। फिल्म में उनकी जिंदगी की कहानी और संघर्ष को दिखाया है। अगर आप इस फिल्म को देखने का मन बना रहे हैं तो इससे पहले इसका रिव्यू जरूर पढ़ ले।

कहानी
अगर हम फिल्म की कहानी की बात करें तो ये एक बायोपिक फिल्म नहीं हैं बल्कि एक ऐसी तमाम लड़कियों के संघर्ष की कहानी को इसमे दिखाने की कोशिश की गई जो अपनी लाइफ में कुछ बनने का सपना देखती हैं और उस सपने के बीच में कितने रोड़े आते है लेकिन इसके बावजूद वो अपने सपने और पथ से भटकती नहीं है। ऐसी ही कहानी हैं गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल। जो एक रियल लाइफ हीरो की कहानी है। फिल्म की कहानी तीस साल पहले उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में रहने वाली एक लड़की की है। जो पायलट बनने का सपना देखती है। इसके लिए वो दिन रात सपने देखती है और इसे पूरा करने की कोशिश भी करती है। अब अगर कोई लड़की कुछ अलग करने के बारे में सोचती है तो कई लोग उसका विरोध करने लगते है। कई बार तो उसके अपने परिवार वाले ही ऐसा करने के लिए लाख बाधाएं उत्पन्न करते है। ऐसा ही गुंजन यानी जाह्नवी कपूर के साथ फिल्म में होता है। इसके अलावा जब वो पायलट की ट्रेनिंग लेने के लिए जाती है तो वहां पर उसके पुरूष साभी भी इसका ​मजाक बनाते हैं और हर पल कमजोर साबित करने की पुरजोर कोशिश करते है। इसके बावजूद वो हर मुसीबत को चीरती हुई आगे बढ़ने की कोशिश करती है। लेकिन एक समय गुंजन की लाइफ में ऐसा आता है कि वो अपनी ट्रेनिंग सेंटर को छोड़कर घर चली आती है। ऐसे में उसके पिता उसका साथ देते हैं। गुंजन के इस सपने में उसके पिता का पूरा साथ होता है जबकि मां इसके खिलाफ। हालांकि इसके बाद वो दिन आता जब गुंजन सक्सेना पायलट बनने के बाद कारिगल युद्ध में फतह हासिल करती है। उस वक्त वो उपहास करने वालों को मुंहतोड़ जवाब देती है।

अभिनय
अगर हम फिल्म में कलाकारों के अभिनय की बात करें तो पहली फिल्म धड़क के हिसाब से जाह्नवी कपूर ने फिल्म में एक नया रूप देखने को मिलता है। उन्होंने एक आम भारतीय लड़की के किरदार को अच्छे से परदे पर निभाया है। जिससे जाह्नवी ने उन तमाम लोगों के मुंह बंद कर दिए है जो ये कहते है​ कि जाह्नवी कपूर को फिल्म में उनकी मां श्रीदेवी की वजह से जगह मिली है। वहीं पिता के किरदार के रूप में एक बार​ फिर से पंकज त्रिपाठी ने लोगों को प्रभावित किया है। उन्होंने अपने अभिनय से भावुक कर दिया है। खुद बोनी कपूर ने भी फिल्म को देखने के बाद कहा था कि पंकज ने उनसे बेहतर जाह्नवी के पिता के रोल में नजर आए है। वहीं फिल्म में बाकी कलाकार अंगद बेदी, मानव विज, रीवा अरोरा ने भी अपने अपने किरदार से फिल्म में जान डालने का काम किया है।

निर्देशन
फिल्म का निर्देशन कमाल का हैं गुंजन सक्सेना: द कारगिल गर्ल को एक खूबसूरत फिल्म बनाने की पूरा श्रेय शरण शर्मा को जाता है। जिन्होंने ना सिर्फ इसका निर्देशन किया है बल्कि पटकथा भी खुद उन्होंने ही लिखी है।

चाहिए विद्युत जामवाल जैसी मस्कुलर बॉडी तो अभिनेता ने शेयर किया अपना एक्सरसाइज सीक्रेट

चौथी बार इस अभिनेता के साथ रोमांस करती हुई नजर आएंगी Deepika Padukone

जल्द शुरू होगी आमिर की फिल्म लाल सिंह चड्ढा की शूटिंग, टर्की रवाना हुए अभिनेता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here