जीने-मरने की इस लड़ाई में दूसरों को तवज्जो देना हिम्मत की बात :Kaif

0

दिल्ली कैपिटल्स के सहायक कोच मोहम्मद कैफ ने कोविड-19 वॉरियर्स को सलाम किया है और कहा है कि उनकी निस्वार्थ भाव से काम करने की इच्छाशक्ति ही उन्हें इस मुश्किल समय में बाकी लोगों से अलग बनाती है। इस साल कोविड-19 ने पूरे विश्व को अपने शिकंजे में ले लिया है। कई लोगों ने इस मुश्किल समय में अपने बारे में न सोच दूसरों की मदद की है और दिल्ली कैपिटल्स ने अपनी डिजिटल मुहिम सलाम दिल्ली में दिल्ली एनसीआर में मौजूद ऐसे लोगों को सम्मान किया था।

दिल्ली कैपिटल्स के सीईओ धीरज मल्होत्रा, कैफ और ईशांत शर्मा तथा अमित मिश्रा जैसे सीनियर खिलाड़ियों ने इसी तरह के कोविड हीरोज के साथ ऑनलाइन मुलाकात की

कैफ ने कहा, “इस मुश्किल समय में अपनी परवाह किए बिना दूसरों को तवज्जो देने के लिए इंसानियत, निस्वार्थपन और इच्छाशक्ति चाहिए। इसलिए मैं आप सभी का इस विश्व को एक सुंदर जगह बनाने के लिए शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। इसलिए मैं दिल्ली कैपिटल्स की तरफ से आप सभी को सलाम करना चाहता हूं, असल योद्धा।”

इस मौके पर कोविड हीरोज ने उनके यहां पहुंच डिलिवरी पैकेज को खोला जिसमें उनके लिए एक पत्र और उनके नाम की जर्सी थी जो दिल्ली कैपिटल्स टीम ने भेजी थी।

ईशांत ने कहा, “पूरी महामारी के दौरान कोविड होरीज ने अपने आप को जनता को बचाने के लिए समर्पित कर दिया। सैनीटेशन वकर्स, डॉक्टरों, सुरक्षा बलों, रक्त दान करने वालों, ड्राइवरों और उनके परिवार वालों को इंसानियत की सेवा करने के लिए हमारी तरफ से छोटा से तोहफा।”

दिल्ली कैपिटल्स का पहला मैच 20 सितंबर को किंग्स इलेवन पंजाब से होगा।

न्यूज स्त्रेात आईएएनएस

SHARE
Previous articleधोनी की ‘आक्रमकता’ का मेरे ऊपर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है : Thapa
Next article‘पर्यावरण से जुड़ी समस्याओं को मुख्य चुनावी मुद्दा बनाएं Political parties’
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here