इस्मा ने चीनी उत्पादन अनुमान बढ़ाकर 265 लाख टन किया

0

निजी चीनी मिलों का शीर्ष संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) ने देश में इस साल चीनी के उत्पादन अनुमान में पांच लाख टन की बढ़ोतरी की है। इस्मा द्वारा मंगलवार को जारी दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार चालू गन्ना पेराई सीजन 2019-20 (अक्टूबर-सितंबर) के दौरान देश में चीनी का उत्पादन 265 लाख टन हो सकता है। इससे पहले उद्योग संगठन ने चालू सीजन में 260 लाख टन चीनी उत्पादन का अनुमान लगाया था।

चीनी उद्योग संगठन ने बीते महीने जनवरी के आखिरी सप्ताह में गóो की कटाई और खड़ी फसलों के उपग्रह द्वारा चित्र लिए थे जिसके आधार पर उत्पादन का आकलन किया गया है।

इस आकलन के अनुसार, देश के सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य उत्तर प्रदेश में चालू सीजन में 118 लाख टन चीनी का उत्पादन होने का अनुमान है जोकि तकरीबन उतना ही है जितना पिछले साल 2018-19 के दौरान हुआ था।

देश के दूसरे सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य महाराष्ट्र में इस 62 लाख टन चीनी उत्पादन का अनुमान है जबकि पिछले साल 107.20 लाख टन था।

बता दें कि महाराष्ट्र के प्रमुख गन्ना उत्पादक क्षेत्र कोल्हापुर, सतारा, सांगली और पुणे में मानसून सीजन में आई भारी बाढ़ के कारण काफी फसल बर्बाद हो गई थी।

वहीं, तीसरे प्रमुख उत्पादक प्रदेश कर्नाटक में भी इस साल चीनी का उत्पादन पिछले साल के 44.30 लाख टन से घटकर 33 लाख टन होने का अनुमान है।

हालांकि अन्य राज्यों के उत्पादन अनुमान में कोई खास तब्दीली नहीं की गई है।

दूसरे अग्रिम उत्पादन अनुमान के अनुसार, तमिलनाडु, गुजरात, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, बिहार पंजाब, हरियाणा, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, ओडिशा और उत्तराखंड में कुल मिलाकर 52 लाख टन चीनी का उत्पादन होने का अनुमान है जोकि उतना ही है जितना इस्मा ने नवंबर में जारी पहले अग्रिम उत्पादन अनुमान में आकलन किया था।

चालू गन्ना पेराई सीजन 2019-20 में बी-हैवी शीरे और गóो के रस से एथेनॉल की आपूर्ति के अनुबंध क्रमश: 61.63 करोड़ लीटर और 10.60 करोड़ लीटर है।

मालूम हो कि चीनी का पिछले साल का बकाया स्टॉक 145 लाख टन है और उत्पादन 265 लाख टन को मिलाकर कुल चालू सीजन के दौरान कुल आपूर्ति 410 लाख टन होगी जबकि घरेलू खपत तकरीबन 260 लाख टन है और निर्यात 50 लाख टन से अधिक होने का अनुमान है।

इस प्रकार, सीजन के आखिर में 30 सितंबर को चीनी का बचा हुआ स्टॉक तकरीबन 100 लाख टन रह सकता है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleदिल्ली हिंसा को लेकर सोनिया गांधी ने मोदी सरकार के सामने खड़े किए ये 5 सवाल
Next articleविनायक चतुर्थी पर इस विधि से करें गणपति की पूजा सभी कष्ट हो जाएंगे दूर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here