ISL-7 : ऐतिहासिक कोलकाता डर्बी में एटीके मोहन बागान ने ईस्ट बंगाल को 2-0 से हराया

0

हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के अब तक के पहले और ऐतिहासिक कोलकाता डर्बी में मौजूदा चैम्पियन एटीके मोहन बागान ने अपने चिर प्रतिद्वंद्वी एससी ईस्ट बंगाल के खिलाफ शुक्रवार को शानदार जीत दर्ज की। दुनिया के सबसे पुराने फुटबाल प्रतिद्वंद्वियों में से एक और भारतीय फुटबाल में सबसे बड़ी और सबसे महत्वपूर्ण मुकाबलों में से एक कोलकाता डर्बी में यहां वॉस्को डि गामा के तिलक मैदान में एटीके मोहन बागान ने आईएसएल की नई टीम ईस्ट बंगाल को 2-0 से हरा दिया।

एटीके मोहन बागान के लिए रॉय कृष्णा ने 49वें और मानवीर सिंह ने 85वें मिनट में गोल किया। टीम की यह लगातार दूसरी जीत है। उसने अपने पहले मैच में केरला ब्लास्टर्स को हराया था। एटीके मोहन बागान अब दो मैचों में छह अंकों के साथ अंकतालिका में टॉप पर पहुंच गई है।

मैच शुरू होने से पहले दोनों टीमों के खिलाड़ियों ने भारतीय फुटबाल के दो दिग्गज पीके बनर्जी और चुन्नी गोस्वामी को मैदान पर श्रद्धांजलि दी और उनकी याद में एक मिनट का मौन रखा। दोनों भारतीय दिग्गज का इस साल की शुरूआत में निधन हो गया था।

आईएसएल के अब तक के पहले कोलकाता डर्बी मैच 20वें मिनट में रॉबी फॉलर की टीम ईस्ट बंगाल के एंथोनी पिकिन्टन गोल करने से चूक गए जबकि इसके दो मिनट बाद ही उसके फॉरवर्ड बलवंत सिंह को गलत फाउल के कारण येलो कार्ड दिखाया गया।

ऐतिहासिक मुकाबले के 30वें मिनट में ईस्ट बंगाल के जैक्स मघोमा हेडर के जरिए बॉल को गोल पोस्ट में डालने का मौका गंवा बैठे। 36वें मिनट में एटीके मोहन बागान के जेवियर हर्नांडेज ने बॉक्स के बाएं छोर से शानदार शॉट लगाया, जिसे ईस्ट बंगाल के गोलकीपर देबजीत मजूमदार ने विफल कर दिया।

45वें मिनट में एटीके मोहन बागान के जयेश राणे को येलो कार्ड दिखाया गया और इस तरह दोनों टीमों के बीच पहला हाफ गोलरहित रहा।

पहले हाफ में ईस्ट बंगाल की टीम 58 प्रतिशत बॉल पजेशन और 258 पास तथा तीन कार्नर के साथ आगे थी। वहीं, एटीके मोहन बागान 42 प्रतिशत बॉल पजेशन और 142 पास तथा दो कार्नर के साथ मुकाबले में थोड़ा पीछे थी।

दूसरे हाफ के शुरू होते ही एटीके मोहन बागान ने जोरदार वापसी की और अपना खाता खोल लिया। मौजूदा चैम्पियन के लिए यह गोल स्ट्राइकर रॉय कृष्णा ने बॉक्स के बाहर से अपने बाएं पैर से 49वें मिनट में गोल किया।

कृष्णा का इस सीजन में दो मैचों में यह लगातार दूसरा गोल है।

53वें मिनट में ईस्ट बंगाल के मघोमा को येलो कार्ड दिखाया गया। 57वें मिनट में ईस्ट बंगाल और 63वें मिनट में एटीके ने मैच में अपना पहला बदलाव किया। इसके बाद 70वें मिनट में एटीके के प्रीतम कोटाल को और फिर पांच मिनट बाद ही ईस्ट बंगाल के कप्तान डेनियल फॉक्स को येलो कार्ड मिला।

ईस्ट बंगाल के पास 82वें मिनट में बराबरी का गोल दागने का मौका था। लेकिन उसके मिडफील्डर और क्लब के उपकप्तान एंथोनी पिकिन्टन गोल करने से चूक गए।

हालांकि एटीके मोहन बागान ने अपना आक्रमण जारी रखा और जल्द ही टीम ने अपनी बढ़त को 2-0 कर दिया। टीम के लिए मैच का दूसरा गोल मानवीर सिंह ने 85वें मिनट में किया, जिसमें प्रबीर का भी असिस्ट रहा।

एटीके मोहन बागान ने दो गोलों की बढ़त को अंत तक कायम रखते हुए आईएसएल के अब तक के पहले कोलकाता डर्बी में ऐतिहासिक जीत अपने नाम कर ली।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleकेरल के मामलों में महज अपना काम कर रही हैं केंद्रीय एजेंसियां : Muralitharan
Next articleMorning News Bulletin, शनिवार 28 नवम्बर, डालिए एक नजर बउी खबरों पर !
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here