आईएसएल-5 : एटीके ने एफसी पुणे सिटी को 1-0 से हराया

0
78

गेरसन विएरा द्वारा किए गए गोल की मदद से दो बार के चैम्पियन एटीके ने शनिवार को विवेकानंद युवा भारती क्रिडांगन में खेले गए हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें सीजन के अपने सातवें लीग मुकाबले में एफसी पुणे सिटी को 1-0 से हरा दिया। मैच का एकमात्र गोल 82वें मिनट में हुआ। इस जीत के साथ एटीके ने न सिर्फ पुणे के खिलाफ अपना हार-जीत का रिकार्ड बेहतर किया बल्कि एक स्थान के फायदे के साथ 10 टीमों की तालिका में सातवें से छठे स्थान पर पहुंच गई। पुणे की टीम सीजन की पांचवीं हार के बाद 10वें स्थान पर ही बनी हुई है। पुणे का अब तक जीत का खाता नहीं खुल सका है।

एटीके और पुणे के बीच आईएसएल में अब तक का यह नौवां मुकाबला था। इससे पहले के आठ मैचों में पांच बार पुणे की जीत हुई थी जबकि सिर्फ एक बार एटीके को जीत मिली थी। दो मुकाबले बराबरी पर छूटे थे। इस सीजन में घर में पांच मैचों में एटीके की धर में यह दूसरी जीत है।

इस मैच में मेजबान टीम ने मार्सेलिन्हो जैसे स्टार की गैरमौजूदगी का फायदा उठाते हुए पुणे के गोलपोस्ट पर कई बार हमले किए लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। पुणे को निश्चित तौर पर अपने सबसे बड़े स्टार मार्सेलिन्हो की कमी खली, जो लाल कार्ड दिखाए जाने के कारण एक मैच के लिए निलम्बित हैं।

मैच का पहला हमला दूसरे ही मिनट में मेजबान टीम ने किया। मार्टिन डियाज के पास पर प्रणॉय हल्धर ने बॉक्स के अंडर से एक तेजतर्रार शॉट लिया लेकिन पुणे के गोलकीपर कमलजीत सिंह सावधान थे।

मेजबान कप्तान लेंजारोते ने 12वें और 18वें मिनट में अच्छे मूव बनाए लेकिन वह कमलजीत को छका नहीं सके। 20वें मिनट में पुणे ने पहला और बड़ा हमला किया। आशिक कुरुनियन ने लेफ्ट फ्लैंक से हमला बोलते हुए तेज शॉट पोस्ट की ओर रवाना किया लेकिन अरिंदम भट्टायार्च ने डाइव करते हुए उसे नाकाम कर दिया।

25वें मिनट में कुरुनियन को पीला कार्ड मिला। इसके बाद दोनों टीमो के बीच गेंद पर वर्चस्व के लिए प्रतिस्पर्धा चलती रही। इसी बीच, 33वें मिनट में पुणे के जोनाथन विला को पीला कार्ड मिला।

पहले हाफ में कोई भी टीम डेडलॉक नहीं तोड़ सकी। दूसरे हाफ में मेजबान टीम ने 52वें मिनट में एक अच्छा मूव बनाया। लेंजारोते ने एवर्टन सांतोस को एक अच्छा पास दिया। गोलकीपर कमलजीत बस उनके सामने थे लेकिन सांतोस पुणे के गोलकीपर को छका पाते और गेंद को हेडर के जरिए पोस्ट में डाल पाते, उससे पहले ही कमलजीत ने गेंद अपने कब्जे में ले ली।

पुणे ने 53वें मिनट में पहला बदलाव किया। प्रणॉय के छोटे भाई अभिषेक हल्धर डेब्यू करते हुए मैदान पर आए जबकि आल्विन जॉर्ज बाहर गए। एटीके ने 58वें और 60वें मिनट में दो अच्छे मूव बनाए पर पैनेपन में कमी के कारण वे नाकाम हो गए। अभिषेक हल्धर ने 61वें मिनट में रोबिन सिंह और निखिल पुजारी के साथ मिलकर एक अच्छा मौका बनाया लेकिन पुजारी के शॉट को अरिंदम ने रोक लिया।

पुणे ने 64वें मिनट में दूसरा बदलाव किया। सार्थक गोलुई बाहर गए और आशुतोष मेहता अंदर आए। 71वें मिनट में पुणे के साहिल पंवार को पीला कार्ड मिला। 75वें मिनट में पुणे के मार्टिन डियाज तो पीला कार्ड मिला और बॉक्स के ठीक बाहर से एटीके को फ्रीकिक मिला लेकिन लेंजारोते का किक मेहता के सिर से डिफलेक्ट हो गया और कमलजीत ने समय रहते उसे अपने कब्जे में ले लिया।

76वें मिनट में एटीके को कार्नर मिला और इस पर पोस्ट के ठीक सामने गेंद पर कई बार प्रहार हुए लेकिन गोल नहीं हो सका। 82वें मिनट में हालांकि विएरा ने गोल करते हुए एटीके को 1-0 से आगे कर दिया। इस गोल में लेंजारोते और जयेश राणे की भी भूमिका रही। लेंजारोते के बैकहील पास पर जयेश ने चपलता दिखाते हुए गेंद को पोस्ट की ओर उछाल दिया, जिसे विएरा ने हेडर के जरिए पोस्ट में डालते हुए मेजबान टीम को आगे करते हुए पुणे को इस सीजन में पांचवीं हार के लिए मजबूर किया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleनिवेशक सम्मेलन से पहले ओडिशा सरकार पर कांग्रेस, भाजपा का हमला
Next articleमहाराष्ट्र में एसआई को कुचलकर भागे 10 गुर्गे छत्तीसगढ़ में पकड़ाए
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here