मूवी रिव्यू : बेहतरीन एक्टिंग लेकिन कमज़ोर डायरेक्शन का परिणाम हैं इरफ़ान की फ़िल्म “ब्लैकमेल”

0
175

फिल्मो में जब इरफ़ान खान की एक्टिंग की बात आती हैं तो इस कलाकार को टक्कर देना किसी के बस की बात नहीं हैं। एक्टिंग और डायलॉग डिलीवरी के मामले में इरफ़ान हमेशा ही एक मंझे हुए कलाकार रहे हैं। फिल्म ब्लैकमेल आज सिनेमाघरों में लग चुकी हैं और हम आपकों इसका रिव्यु बता रहें हैं। ब्लैकमेल एक डार्क कॉमेडी फिल्म जिसमें वैसें तो सभी की एक्टिंग लाजवाब हैं लेकिन खासतौर से इरफ़ान कि बात की जाए तो इनका कोई तोड़ नहीं हैं।  मालूम हो इरफ़ान इन दिनों लंदन में हैं और अपना इलाज करा रहे हैं। ब्लैकमेल फिल्म में इरफ़ान देव के किरदार में एक पति के रूप  में नज़र आये हैं जो की एक टिश्यू पेपर की कंपनी में काम करता हैं और घर अक्सर ही जाया करता हैं। फिल्म में इरफ़ांन के साथ कीर्ति, अरुणोदय सिंह ,ओमी वैद्य और दिव्या दत्ता नज़र आती हैं। फिल्म का डायरेक्शन काफी ढीला हैं और फिल्म कई जगहों पर बहुत ज़्यादा खींची गई हैं।

फिल्म की कहानी कुछ इस तरह से चलती हैं की इरफ़ान अपनी पत्नी (कीर्ति) से कम ही लगाव रखते हैं और एक दिन दोस्त के कहने पर हाफ डे में घर पहुंचते हैं ,जहाँ उन्हें पता चलता हैं की उनकी बीवी का उसके बचपन के दोस्त (अरुणोदय सिंह ) के साथ अफेयर चल रहा हैं. ये देखकर इरफ़ान शॉक्ड रह जाते हैं और वो अरुणोदय को ब्लैकमेल करना शुरू करते हैं।  इसी क्रम में आगे से आगे किरदार जुड़ते चले जाते हैं और एक रोचक फिल्म होती दिखाई देती है.इस सबके बावजूद फिल्म की कहानी कई जगह पर ज़रूरत से ज़्यादा खींची गयी लगती हैं। फिल्म में सभी की एक्टिंग अच्छी है लेकिन कई जगह पर ओमी वैद्य का किरदार आपको बोर करता दिखाई देता हैं।  फिल्म का लचर म्यूजिक और सुस्त डायरेक्शन भी आपको परेशान करता हैं। 

फिल्म एक डार्क कॉमेडी हैं और इसमें इरफ़ान का किरदार ऐसा हैं जिसे बार बार देखने का मन करता हैं। फिल्म में अगर कुछ ज़बरदस्ती के सीन्स की बात छोड़ दी जाये तो फिल्म ओवर ऑल ठीक हैं इरफ़ान के लिए इस फिल्म को देखाजा सकता हैं। फिल्म का डायरेक्शन अभिनय ने किया हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here