आईपीएल-12 : दिल्ली ने पंजाब को 5 विकेट से शिकस्त दी (राउंडअप)

0
67

मियर लीग (आईपीएल) के मैच में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए किंग्स इलेवन पंजाब को पांच विकेट से मात दी।

इस दमदार जीत के बाद तालिका में तीसरे पायदान पर काबिज दिल्ली की टीम के कुल 12 अंक हो गए हैं। वह रन रेट के आधार पर दूसरे स्थान पर मौजूद मुंबई इंडियंस से पीछे है।

दिल्ली ने पंजाब की ओर से दिए गए 164 रनों के लक्ष्य को 19.4 ओवर में पांच विकेट खोकर ही हासिल कर लिया। मेहमान टीम की ओर से हरडस विजोएन ने दो और मोहम्मद शमी ने एक विकेट लिया।

लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली की शुरुआत पंजाब की तरह खराब रही, लेकिन उसने पावरप्ले में तेजी से रन बनाए। सलामी बल्लेबाजी पृथ्वी शॉ कुछ खास नहीं कर पाए और 13 के निजी स्कोर पर रन आउट हो गए।

शॉ के पवेलियन लौटने के बाद शिखर धवन ने कप्तान श्रेयस अय्यर के साथ मिलकर तेजी से रन बनाए। पहले छह ओवर में मेजबान टीम ने कुल 60 रन जड़ दिए।

धवन 12वें ओवर में अपना अर्धशतक पूरा किया। उन्होंने 50 रन बनाने के लिए 36 गेंदों का सामना किया और मेजबान टीम की पारी को लड़खड़ाने नहीं दिया। अय्यर ने भी उनका बखूबी साथ निभाया।

कोटला की धीमी विकेट का लाभ उठाने के लिए पंजाब के कप्तान रविचंद्रन अश्विन ने लगातार स्पिन गेंदबाजों का उपयोग किया, लेकिन उन्हें विकेट लेने में बहुत कठिनाई हुई। अय्यर ने शुरुआत में अपना समय लिया और फिर तेजी से रन बनाए।

मैच के 14वें ओवर में पंजाब को सफलता मिली। तेज गेंदबाज विजोएन ने धवन को अश्विन के हाथों कैच आउट कराया। धवन ने 41 गेंदों पर सात चौके और एक छक्के की बदौलत 56 रन की पारी खेली।

विकेटीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत से इस अहम मौका पर रनों की उम्मीद थी, लेकिन उन्होंने एक बार फिर निराशा किया। पंत को विजोएन ने छह के निजी स्कोर पर अपना दूसरा शिकार बनाया और पंजाब की उम्मीदों को जिंदा रखा।

अय्यर ने कोलिन इंग्राम (19) के साथ मिलकर कप्तानी पारी खेली और टूर्नामेंट का अपना 12वां अर्धशतक पूरा किया। शमी ने इंग्राम को अपना शिकार बनाया और हरफनमौला खिलाड़ी अक्षर पटेल एक रन बनाकर रन आउट हो गए जिसने मेजबान टीम के खेमे में चिंता बढ़ा दी।

आखिरी ओवर में दिल्ली को जीत के लिए छह रनों की दरकार थी और गेंद कुरेन के हाथों में थी, लेकिन इस बार वह कमाल नहीं कर पाए और दिल्ली की टीम ने मुकाबला जीत लिया।

अय्यर 58 रन बनाकर नाबाद रहे, उन्होंने 49 गेंदों की अपनी पारी में पांच चौके एक छक्का लगाया। शेरफेन रदरफोर्ड दो रन बनाकर नाबाद पवेलियन लौटे।

इससे पहले, टॉस हारकर बल्लेबाजी करने उतरी पंजाब की शुरुआत खराब रही। फॉर्म में चल रहे सलामी बल्लेबाज लोकेश राहुल केवल 12 रन ही बना पाए। संदीप लामिछाने ने उन्हें पवेलियन भेजकर 13 के कुल योग पर मेहमान टीम को पहला झटका दिया।

क्रिस गेल पर हलांकि, किसी प्रकार दबाव नहीं दिखा और उन्होंने खुलकर बल्लेबाजी की। पावरप्ले में पंजाब ने मयंक अग्रवाल (2) का विकेट भी खो दिया, लेकिन गेल की आक्रामक बल्लेबाजी के कारण मेहमान टीम पहले छह ओवर में 50 रन बनाने में कमायाब रही।

अग्रवाल को कगिसो रबाडा ने शेरफेन रदरफोर्ड के हाथों कैच करवाया। चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने आए दिक्षण अफ्रीकी बल्लेबीज डेविड मिलर भी ज्यादा देर तक क्रीज पर टिक नहीं पाए। उन्हें सात के निजी स्कोर पर अक्षर पटेल ने पवेलियन की राह दिखाई।

इसके बाद, गेल ने मंदीप सिंह के साथ मिलकर पंजाब की पारी को तेजी से आगे बढ़ाया। गेल खतरनाक नजर आ रहे थे, लेकिन 13वें ओवर में लामिछाने ने उन्हें आउट कर दिया। उन्होंने 37 गेंदों की अपनी पारी में छह चौके और पांच छक्के जड़े।

गेल और मंदीप के बीच चौथे विकेट के लिए 45 रनों की साझेदारी हुई।

हरफनमौला खिलाड़ी सैम कुरेन भी लामिछाने की बेहतरीन गेंदबाजी का शिकर हुए। यहां मेहमान का स्कोर पांच विकेट पर 106 रन हो गया।

मंदीप ने कप्तान रविचंद्रन अश्विन (16) के साथ मिलकर पारी को आगे बढ़ाने प्रयास किया, लेकिन दोनों की बीच 23 रनों की ही साझेदारी हो पाई। पटेल ने 30 के निजी स्कोर पर मंदीप को आउट करके पंजाब को बड़ा स्कोर नहीं बनाने दिया।

हरप्रीत बराड़ 20 और हरडस विजोएन दो रन बनाकर नाबाद रहे। दिल्ली की ओर से लामिछाने ने तीन जबकि रबाडा और पटेल ने दो-दो विकेट चटकाए।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleजम्मू-कश्मीर : राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगे प्रतिबंध में ढील
Next articleभाजपा 150 सीटों पर सिमट जाएगी, राजग 200 पर : अहमद पटेल
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here