अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवसः एक बार जरूर जाएं भारत के इन खास टाइगर रिजर्व्स में

हर साल 29जूलाई को अंतर राष्ट्रीय बाघ दिवस मनाया जाता हैं। बता दें कि देश में बाघों क विलुप्त होने से बचाने के लिए सरकार नें 1973 में प्रोजेक्ट टाइगर की शूरूआत की थी।

0

जयपुर। हर साल 29जूलाई को अंतर राष्ट्रीय बाघ दिवस मनाया जाता हैं। बता दें कि देश में बाघों क विलुप्त होने से बचाने के लिए सरकार नें 1973 में प्रोजेक्ट टाइगर की शूरूआत की थी। इसी प्रयास के तहत टाइगर रिसर्व बनाए गए। 1973-7 में सिर्फ 9 टाइगर रिसर्व्स थे लेकिन अब उनकी संख्या बढकर 50 हो गई हैं। आज हम आपको उनमें से ही कुछ रिजर्व्स के बारे में बताने जा रहे हैं। तो आईए जानते हैं उन रिसर्व्स के बारे में –

जिम कॉर्बेट नेश्नल पार्क –  बता दें कि यह जगह उत्तराखंड के नैनीताल जिले में स्थित हैं। यह भारत का पहला और सबसे पुराना पार्क हैं। यह पार्क 520 स्क्वेयर किलोमीटर इलाके में फैला यह पार्क 4 अलग-अलग जोन्स में बंटा हुआ है- बिजरानी, धिकाला, झिरना और दुर्गादेवी जोन। यह पार्क देश के सबसे पहले वाइल्ड लाइफ रिजर्व पार्क्स में से एक है जिसकी स्थापना 1936 में हुई थी। पहले इसका नाम रामगंगा नैशनल पार्क था लेकिन बाद में शिकारी से संरक्षक बने प्रसिद्ध जिम कॉर्बेट के नाम पर इस पार्क का नाम जिम कॉर्बेट नैशनल पार्क कर दिया गया। प्रॉजेक्ट टाइगर की शुरुआत जिम कॉर्बेट से हुई थी और देश के 9 टाइगर रिजर्व्स में से एक टाइगर रिजर्व जिम कॉर्बेट में है।

रणथम्भोर नेश्नल पार्क – यह पार्क उत्तर भारत का सबसे बड़ा पार्क हैं।  सवाई माधोपुर जिले में से स्थित रणथम्भोर नैशनल पार्क वाइल्ड लाइफ में इंट्रेस्ट रखने वालों के लिए बेस्ट प्लेस है। यहां का मुख्य आकर्षण यहां की वाइल्ड लाइफ और खासकर टाइगर्स हैं। यह जगह एक फैमिली ट्रिप के लिए बहुत ही अच्छी जगह हैं।

पन्ना नेश्नल पार्क – बता दें कि यह जगह एमपी से सिर्फ 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। यहां पर हर साल काफी पर्यटक घूमने के लिए आते हैं। यहां पर हर जानवर क देख रेख काफी अच्छे से की जाती हैं। अगर आप यहां पर घूमने जाने चाहते हैं तो आप मानसून के समय में जा सकते हैं।

बांधवगढ़ नेश्नल पार्क – मध्य प्रदेश के उमरिया जिले की विंद्या हिल्स में स्थित बांधवगढ़ नैशनल पार्क 1968 में बना था। यह पार्क टाइगर्स के लिए खासतौर पर प्रसिद्ध है। ऐसा कहा जाता है कि भारत के किसी भी पार्क से ज्यादा टाइगर्स यहां हैं। इसके अलावा लेपर्ड और कई प्रजातियों के हिरण भी यहां पाए जाते हैं। बांधवगढ़ नैशनल पार्क को तीन जोन में डिवाइड किया है: ताला, मगधी और खितौली। आप यहां सफारी का मजा ले सकते हैं।

ताडोबा नेश्नल पार्क – यह महाराष्ट्र का सबसे पुराना और सबे बड़ा पार्क हैं। यह महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले में स्थित हैं और नागपुर से इसकी दूरी लगभग 150 कुमी हैं। वर्ष 1955 में बनाया गया ताडोबा नेशनल पार्क 1,727 वर्ग किमी में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here