INDvsBAN: जानिए उस पिंक बॉल के बारे में, जिसे देखने के लिए 65 हजार फैंस ने लिए टिकट

0

जयपुर (स्पोर्ट्स डेस्क) भारत और बांग्लादेश के बीच होने वाला डे नाइट टेस्ट पिंक बॉल से खेला जाना है। इस मुकाबले को लेकर खिलाड़ी और तमाम फैंस में भी उत्सुकता है।तभी तो 68 हजार की क्षमता वाले ईडन गॉर्डन मैदान की 65 हजार के करीब टिकटे बिक चुके हैं।

इस मुकाबले के दौरान कोलकाता में मेला सा लगने जा रहा है। डे नाइट टेस्ट के रूप में दोनों टीमों के लिए भी ऐतिहासिक दिन होगा क्योंकि इससे पहले इन टीमों ने कभी डे नाइट टेस्ट मुकाबला नहीं खेला है। मुकाबले में प्रयोग होने वाले खास पिंक बॉल के बारे में आपको बताने जा रहे हैं। बता दें कि 1877 में लाल गेंद से शुरु हुआ टेस्ट अब गुलाबी गेंद तक आ पहुंचा है। बता दें कि सबसे पहले डे नाइट टेस्ट की शुरुआत 27 नवंबर को 2015 को हुई जब ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड भिड़ीं थीं। भारत और बांग्लादेश के अलावा टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले सभी देश डे नाइट टेस्ट का हिस्सा बन चुके हैं। मुकाबले में प्रयोग होने गुलाबी गेंद की बात की जाए तो सबसे पहले इस गेंद का निर्माण ऑस्ट्रेलिया की बॉल मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी कूकाबूरा ने किया था ।

कूकाबूरा ने कई साल तक इस नई पिंक बॉल को लेकर परीक्षण किया तब जाकर एक बेहतरीन गुलाबी गेंद बन पाई। पहली पिंक बॉल तो 10 साल पहले बन गई थी पर इसकी टेस्टिंग करते करते पांच-छह साल और लग गए।इसके बाद 2015 में ऑस्ट्रेलिया बनाम न्यूजीलैंड के डे नाइट टेस्ट में पहली बार पिंक बॉल का इस्तेमाल किया गया। टेस्ट क्रिकेट में इस गेंद का प्रयोग नया ही कहा जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here