इंदौर : अफसरों को बल्ले से पीटने वाले भाजपा विधायक को जेल भेजा

0
116

मध्य प्रदेश के इंदौर में जर्जर मकान को तोड़ने गए नगर निगम के अमले की क्रिकेट के बल्ले से पिटाई करने वाले भाजपा विधायक आकाश विजयवर्गीय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। आकाश भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के पुत्र हैं।

पुलिस के अनुसार, नगर निगम के अधिकारी धीरेंद्र व्यास की शिकायत पर एमजी रोड पुलिस थाने में आकाश विजयवर्गीय के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा, मारपीट और बलवा करने के लिए धारा 353, 294, 506, 147, 148 के तहत प्रकरण दर्ज किया गया और उन्हें गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, आकाश को देर शाम भारी सुरक्षा बंदोबस्त के बीच प्रथम श्रेणी विशेष न्यायाधीश गौरव गर्ग की अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें सात जुलाई तक के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है।

पुलिस ने बताया कि इस मामले में विजयवर्गीय के अलावा 10 अन्य लोगों को भी आरोपी बनाया गया है। विजयवर्गीय की गिरफ्तारी के खिलाफ भाजपा के कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे हैं।

जिला लोक अभियोजन अधिकारी अकरम शेख ने संवाददाताओं को बताया, “अदालत ने जमानत याचिका खारिज करने के बाद भाजपा विधायक को सात जुलाई तक न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। अभियोजन पक्ष ने जमानत याचिका पर आपत्ति जताते हुए कहा कि नगर निगम के एक भवन निरीक्षक से सरेआम मारपीट कर शासकीय कार्य में बाधा डालने वाले आरोपी को जमानत का लाभ कतई नहीं दिया जाना चाहिए।”

आकाश के अधिवक्ता पुष्प मित्र भार्गव ने संवाददाताओं से कहा, “आकाश की जमानत अर्जी को न्यायाधीश ने खारिज कर दिया है। गुरुवार को जमानत के लिए जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत में आवेदन किया जाएगा।”

आकाश द्वारा नगर निगम के अधिकारियों की पिटाई करने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें हाथ में क्रिकेट बल्ला थामे आकाश एक अधिकारी के निचले हिस्से और पैरों पर प्रहार कर रहे हैं। वहीं भीड़ कई अन्य कर्मचारियों के साथ मारपीट करके उनके कपड़े फाड़ रही है।

नगर निगम के अधिकारी धीरेंद्र व्यास ने संवाददाताओं को बताया, “गंजी कंपाउंड क्षेत्र के जर्जर मकान को तोड़ने गए थे। इसी दौरान विधायक आकाश विजयवर्गीय ने अपने समर्थकों के साथ मिलकर क्रिकेट के बैट से पिटाई कर दी।”

सूत्रों के अनुसार, बुधवार को नगर निगम का दल गंजी कंपाउंड क्षेत्र में एक जर्जर मकान को गिराने पहुंचा था। इसकी सूचना मिलने पर विधायक आकाश विजयवर्गीय मौके पर पहुंचे, जहां उनकी नगर निगम के अमले से बहस हो गई। तभी वह क्रिकेट का बल्ला लेकर नगर निगम के अधिकारियों से भिड़ गए। विजयवर्गीय ने बल्ले से अफसरों की पिटाई की।

आकाश ने घटना के बाद संवाददाताओं से कहा, “नगर निगम के कर्मचारी और अधिकारी महिलाओं से अभद्रता कर रहे थे, जिस पर मुझे गुस्सा आ गया। गुस्से में क्या किया और क्या कहा, मुझे याद नहीं है।”

आकाश ने आगे कहा, “भाजपा ने सिखाया है, पहले आवेदन, फिर निवेदन और फर दे दनादन। हमने हाथ जोड़कर निवेदन कई बार किया, अभी तो यह सिर्फ शुरुआत है। अब यह लड़ाई इनके खात्मे के साथ खत्म होगी।”

राज्य सरकार के नगरीय प्रशासन मंत्री जयवर्धन सिह ने इस घटना को दुखद बताते हुए कहा, “वह (आकाश विजयवर्गीय) जनप्रतिनिधि हैं। उन्होंने इस तरह का आचरण क्यों किया, इसकी जानकारी नहीं है, मगर उन्हें इसके लिए माफी मांगनी चाहिए।”

आकाश को जेल भेजे जाने के बाद से भाजपा कार्यकर्ता जेल के बाहर डेरा डाले हुए हैं। सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। कार्यकर्ताओं का कहना है कि जब तक आकाश जेल में रहेंगे वे जेल के बाहर डेरा डाले रहेंगे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous article58 सिख तीर्थयात्रियों को पाकिस्तानी वीजा से इंकार
Next articleआंध्र प्रदेश: पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू के खिलाफ कानूनी कार्रवाई का आदेश
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here