भारत का विदेशी पूंजी भंडार 6 अरब डॉलर बढ़ा

0

भारत के विदेशी पूंजी भंडार में तीन जुलाई को समाप्त सप्ताह में 6.416 अरब डॉलर की वृद्धि हुई है।

आरबीआई के साप्ताहिक आंकड़े के अनुसार, पूंजी भंडार 26 जून को समाप्त सप्ताह के 506.838 अरब डॉलर से बढ़कर 513.254 अरब डॉलर हो गया।

विदेशी पूंजी भंडार में विदेशी मुद्रा भंडार (एफसीए), स्वर्ण भंडार, विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर), और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) में देश का भंडार शामिल होते हैं।

साप्ताहिक आधार पर विदेशी पूंजी भंडार का सबसे बड़ा घटक एफसीए 5.659 अरब डॉलर बढ़कर 473.263 अरब डॉलर हो गया।

इसी तरह देश का स्वर्ण भंडार 49.50 करोड़ डॉलर बढ़ कर 34.017 अरब डॉलर हो गया।

एसडीआर का मूल्य 40 लाख डॉलर बढ़कर करीब 1.45 अरब डॉलर हो गया। वहीं आईएमएफ में भारत की आरक्षित निधि 25.9 करोड़ डॉलर बढ़कर करीब 4.53 अरब डॉलर हो गई।

यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleभुवन ‘हीर-रांझा’ सिंगल संग आने को तैयार
Next articleआईएमएफ, विश्व बैंक की वार्षिक बैठकें वर्चुअल होंगी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here