मजबूरी में नहीं अब शौक से भारतीय महिलायें बढ़ रही हैं सोलो ट्रिप की ओर

0
588

भारतीय महिलाओं का वो वक़्त अब गुज़रते हुए दिखाई दे रहा है जब वो किसी मजबूरी में या फिर किसी पर निर्भर होकर कही बाहर घूमने जाया करती थीं| आज के वक़्त में इंडिपेंडेंट भारतीय महिलाओं की संख्या बढ़ती जा रही है और दिन प्रतिदिन वो अपनी ज़िन्दगी के फैसलों को लेकर भी आज़ाद होती जा रही हैं और देखने को मिल रहा है भारतीय महिलाओं के सोलो ट्रिप के चुनाव के रूप में|हाल ही में की गयी एक शोध में ये पता चला है की अब लगभग 50 प्रतिशत महिलाएं अपनी ख़ुशी से सोलो ट्रिप पर जाने का फैसला करती हैं और उन्हें ट्रिप पर जाने के लिए किसी वजह की या फिर साथ की ज़रुरत नहीं होती| इन महिलाओं से जब इस बारे में बात की गयी तो 56 प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि कभी कभी घूमने जाना उन्हें ख़ुशी देता है और साथ ही उनके स्वास्थ को भी अच्छा बनाये रखता है वहीँ 34 प्रतिशत महिलाओं का कहना था कि वो अपनी कमाई की सेविंग ही घूमने के लिए करती हैं और 38 प्रतिशत महिलाओं ने कहा कि उन्हें अपनी सेविंग्स को घूमने पर खर्च करने से ज़्यादा अच्छा काम और कोई नहीं लगता है|

कॉग्स एंड किंग्स ने अपनी बुकिंग के अनुसार बताया की हर साल लगभग 32 प्रतिशत भारतीय महिला ट्रैवलर की संख्या बढ़ रही है, यही नहीं उन्होंने यह भी बताया कि सबसे ज़्यादा महिला ट्रैवेलर्स सोलो ट्रिप के साथ साथ एडवेंचर ट्रिप की ओर भी बढ़ रही हैं| ये प्रतिशत सिर्फ नेशनल ही नहीं बल्कि इंटरनेशनल ट्रिप के लिए भी बढ़ रहा है| इन भारतीय महिला एडवेंचर ट्रैवलर में सबसे ज़्यादा रूचि डाइविंग और ट्रैकिंग को लेकर देखी गयी है|

भारतीय महिला ट्रैवेलर्स को एडवेंचर ट्रिप के लिए सबसे ज़्यादा लद्दाख, हिमाचल प्रदेश, नेपाल जैसी जगहों की ओर आकर्षित होते हुए देखा गया है| इस शोध में जिन महिलाओं को शामिल किया गया था उनमे से 70 प्रतिशत महिलाएं मेट्रो सिटी से थी जिन्हे ऐसी जगहों पर घूमना पसंद था जहाँ उन्हें डाइविंग, साइकिलिंग, पैराग्लाइडिंग जैसे एडवेंचर से रूबरू होने का अवसर मिल सके|

आज की बदलती भारतीय महिलाएं अब अपने हाथों की कमाई के साथ साथ अपने ख्यालों और चॉइसेज से भी आज़ाद हैं जो अब और भी अलग और नयी दुनिया कि ओर कदम रखती दिखाई दे रही हैं|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here