ऐसे टला Airtel के 30 करोड़ कस्टमर्स के डेटा पर मंडराया खतरा

0

टेलीकॉम सैक्टर की बड़ी कंपनियों में शुमार एयरटेल के करोड़ों ग्राहकों के डेटा में सैंध लगत-लगते बच गई। यदि कंपनी समय पर नहीं चेतती तो शायद 30 करोड़ यूजर्स के डेटा को हैकर्स चुरा सकते थे। हालांकि कंपनी ने फिलहाल इसे ठीक कर लिया है। इसके चलते कंपनी के 30 करोड़ से ज्यादा ग्राहकों के डेटा को खतरे से बचा लिया है। एयरटेल मोबाइल ऐप के ऐप्लिकेशन प्रोग्राम इंटरफेस (API) में तकनीकी खामी को तलाशा और ठीक कर लिया। हालांकि बग ठीक नहीं होती तो हैकर्स ग्राहक के निजी डेटा को चुराने में सफल हो जाते। इस दौरान हैकर्स ग्राहकों के नंबरों का प्रयोग करते।

एयरटेल के मुताबिक हमारे टेस्टिंग API में से एक में तकनीकी समस्या थी। ग्राहकों के डेटा में नाम, ई-मेल, बर्थडे और एड्रेस को हैकर्स चुरा सकते थे। एयरटेल कंपनी ने अपने कस्टमर्स के डेटा को सुरक्षित कर लिया है और इस खामी को ठीक कर लिया है। इसके बारे में जानकारी मिलने पर इसे ठीक किया गया है। रिसर्चर ने कहा कि खामी का पता लगाने में 15 मिनट का समय लगा था। ग्राहकों का IMEI नंबर भी ऐक्सेसिबल था। ये IMEI नंबर किसी मोबाइल डिवाइस की यूनिक न्यूमेरिकल आइडेंटिटी होती है।

एयरटेल प्रवक्ता ने एक चैनल से कहा कि एयरटेल के डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पूरी तरह सुरक्षित हैं। ग्राहकों की निजता हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है। डिजिटल प्लेटफॉर्म की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बेहतर समाधानों का प्रयोग करते हैं। दरअसल, एयरटेल भारत की तीसरे सबसे बड़े मोबाइल नेटवर्क की कंपनी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here