देश का युवा सरकारी नौकरी चाहता है

0
759

जयपुर। अकसर आप सुनते रहते होगी की आज देश का युवा सरकारी नौकरी नहीं बल्कि प्राइवेट नौकरी चाहते है, वहीं आपके नेता भी बोलते रहते है की आज देश के युवा स्वरोजगार चाहते है। आप राहुल गांधी और नरेन्द्र मोदी दोनों नेताओं को बोलते हुए सुन सकते है की आज देश का युवा स्वरोजगार चाहता है।

लेकिन आज हम आपको बतादे की इस देश की सच्चाई ये नहीं है, आपको बता दे की आज इस देश का युवा सरकारी नौकरी चाहते है, न की कोई प्राइवेट नौकरी।

इस रिपोर्ट में हम जो आपको आकड़े बताने वाले है वो आकड़े CSDS  रिपोर्ट और लेबर ब्यूरो की 2015-16 के सर्वे की रिपोर्ट जो हाल ही में जारी हुई है, इन सर्वे के आकडे हम आपको एनडीटीवी की रिपोर्ट से लिए गए है।

2016 की रिपोर्ट जो हाल ही जारी हुई है उसके अनुसार आज देश का 65 प्रतिशत युवा सरकारी नौकरी की चाहत रखता है। इसके अलावा सिर्फ 19 प्रतिशत लोग चाहते है की वो अपना कोई बिज़नस शुरू करे, वहीं महज सिर्फ 7 प्रतिशत लोग किसी प्राइवेट नौकरी की चाहत रखते है।

यानि आज देश के युवा सरकारी नौकरी में ज्यादा रुची रखता है, न की किसी प्राइवेट नौकरी में और न ही अपनी बिज़नस में।

ये पहली बार नहीं है की सरकारी नौकरी चाहने वालो का प्रतिशत इतना बड़ा है, इसी तरह का सर्वे 2007 में हुआ था, तब 62 प्रतिशत लोग सरकारी नौकरी की चाहत रखते थे, जो की अब बढ़कर 65 प्रतिशत पर पहुंच गया है।

इस देश का आधे से ज्यादा युवा सरकारी नौकरी चाहता है लेकिन फिर भी सरकारे इन्हें नौकरी नहीं दे रही है, ऐसा नहीं है की सरकार के पास नौकरी नहीं है। हाल ही में आई एक रिपोर्ट के अनुसार सिर्फ केंद्र सरकार के पास 24 लाख से ज्यादा रोजगार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here