यौन हिंसा की वजह से भारत महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश

ग्लोबल एकस्पर्ट ने एक सर्वे कराया है। 26 मार्च से लेकर 4 मई तक के बीच में कराया गया है। यूरोप, अफ्रीका, अमेरिका और एशिया महाद्वीप के करीब 548 लोगों ने इस पोल में हिस्सा लिया और अपना मत रखा।

0
206

जयपुर। भारत में बलात्कार की घटनाएं हाल के दिनों में कुछ ज़्यादा ही बढ़ी हैं। सिर्फ बलात्कार ही नहीं बल्कि महिलाओं के खिलाफ महिलाओं के खिलाफ किसी भी तरह की यौन हिंसा में इज़ाफा ही हुआ है।

24 घंटे में सिर्फ रात ही नहीं बल्कि दिन दहाड़े कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिससे कि ये साफ होता है कि अपने देश में शहरी महिलाओं से लेकर ग्रामीण महिलाओं के लिए जीना कितना मुहाल है।

अब इस बात पर मुहर लगा दी है एक सर्वे ने भी। सर्वे ने भारत को विश्व भर में यौन हिंसाओं की वजह से महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश बताया है।

ग्लोबल एकस्पर्ट ने एक सर्वे कराया है। 26 मार्च से लेकर 4 मई तक के बीच में कराया गया है। यूरोप, अफ्रीका, अमेरिका और एशिया महाद्वीप के करीब 548 लोगों ने इस पोल में हिस्सा लिया और अपना मत रखा।

इस पोल के हिसाब से भारत यौन हिंसाओं के मामले में नंबर 1 पर है। 2007 से लेकर 2016 तक भारत में महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसाओं के मामले में 87 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हुई है। इस पोल के हिसाब से भारत, पाकिस्तान, सोमालिया जैसे देश महिलाओं के लिए सबसे खतरनाक हैं। सर्वे के हिसाब से भारत में हर 4 घंटे में रेप की घटनाएं सामने आती हैं। 

सर्वे में 193 संयुक्त राष्ट्र देशों में आने वाले 5 देशों से पूछा गया था कि उनके हिसाब से कौन सा देश महिलाओं के खिलाफ अत्याचार के मामले में सबसे ज़्यादा खतरनाक है। इस तरह से सर्वे ने भारत को मानव तस्करी, यौन हिंसा, घरेलू हिंसा, ज़बरदस्ती शादियों के मामले में सबसे आगे पाया।

इस सर्वे के हिसाब से मानव तस्करी के मामल में भारत लीबिया, मयांमार के साथ कदम से कदम मिलाते हुए सबसे आगे है और हर साल करीब 150 बिलियन डॉलर के आसपास मानव तस्करी की जाती है।

इस रिपोर्ट पर भारत सरकार ने अब तक कोई जवाब नहीं दिया है। लेकिन सर्वे में जिस तरह से पाया गया है, उसके हिसाब से शायद सर्वे सही ही है, क्योंकि हाल के दिनों मे रेप और यौन हिंसाओं की घटनाएं भारत में रोज़ाना ही देखने को मिल रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here