कूल संपत्ति के मामले में विश्व का पांचवा धनी देश बना भारत

0
228

हाल ही में आई एक रिपोर्ट के अनुसार भारत की कुल संपति पिछले एक दशक में चार गुना बढ गई है। भारत में कुल धन 2000 और 2019 के बीच चार गुना बढ़ गया।2019 में भारत की कुल संपत्ति 12.6 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच गई। इस आकंडे के बाद भारत कुल संपत्ति के मामले में पांचवे स्थान पर आ गया ।

आपको बता दें, भारत में प्रति वयस्क की संपत्ति 2000-2019 की अवधि में सालाना 11% की औसत दर से बढ़ी और मध्यम विकास के एक वर्ष के बाद 2019 के मध्य में वयस्क प्रतिव्यक्ति धन 14,569 डॉलर अनुमानित है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि  2008 से पहले, धन दृढ़ता से 2000 में $ 1212 से बढ़कर 2007 में $ 6,378 तक पहुंच गया था। 2008 में 29% गिरने के बाद, यह फिर से जारी हुआ और 2019 तक 12% की औसत दर से बढ़ा। व्यक्तिगत धन को जोड़ते हुए है। संपत्ति और अन्य वास्तविक संपत्तियों में भारत का वर्चस्व है, जो घरेलू संपत्ति का बड़ा हिस्सा है।

एक अनुमान के मुताबिक वैश्विक संपदा के शीर्ष 1% में भारत के 8.27 लाख वयस्क हैं। यह अनुमान है कि भारत में $ 50 मिलियन और 1,790 से अधिक संपत्ति वाले 4,460 वयस्क हैं, जिनकी कूल संपत्ति$ 100 मिलियन से अधिक है।

गौरतलब है कि इस अध्ययन में यह भी पाया गया कि भारत में धनी लोगों की संख्या में वृद्धि हुई है, लेकिन जनसंख्या का एक बड़ा वर्ग अभी भी समग्र धन में वृद्धि का हिस्सा नहीं है। भारत की मुख्य समस्या यहां भी साफ तौर पर उजागर होती है कि निचले वर्ग के पास आज भी तरक्क् करने के काफी कम अवसर है जो उनकी संख्या की तुलना में आंकडों में परिवर्तन नहीं लाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here