इंडिया-ए ने टीम इंडिया के अनिवार्य यो-यो टेस्ट को नकारा

0

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री ने यह साफ कर दिया है कि टीम में शामिल होने के लिए खिलाड़ियों को यो-यो टेस्ट पास करना जरूरी है। इंडिया-ए हालांकि अलग दिशा में है और उसने इस टेस्ट को हटा दिया है।

इस मामले से संबंध रखने वाले एक सूत्र ने आईएएनएस से कहा कि इंडिया-ए को राष्ट्रीय टीम में एक सप्लाई चेन के रूप में देखा जाता है लेकिन इसके बाद भी यह टेस्ट इंडिया-ए टीम के सिस्टम का हिस्सा नहीं है।

सूत्र ने कहा, “नहीं, यो-यो टेस्ट इंडिया-ए टीम का हिस्सा नहीं है। यह कम से कम बीते कुछ महीनों से तो नहीं है।”

इस मामले में जब इंडिया-ए के फील्डिंग कोच अभय शर्मा से बात की गई तो वह सटीक जवाब देने से बचते दिखे और उन्होंने कहा कि वह ट्रेनर की कार्यशैली में दखल नहीं देते हैं।

अभय ने दक्षिण अफ्रीका से आईएएएनस से कहा, “देखिए, आपको इस संबंध में ट्रेनर से बात करनी होगी कि ये क्यों और कैसे? यह हमारा कार्यक्षेत्र नहीं है और हम कार्यशैली में दखल भी नहीं देते हैं। वह लोग विशेष प्रोग्राम बनाते हैं जिनके बारे में वही आपको बता सकते हैं।”

जब उनसे पूछा गया कि क्या यह कोहली और शास्त्री के उस सिस्टम को तोड़ना नहीं है जो वो टीम में लाना चाहते हैं। इस पर उन्होंने कहा, “अंदाजा लगाने के बजाए बेहतर होगा कि आप ट्रेनर से ही पूछ लें। जैसा मैंने कहा, ये हमारा कार्यक्षेत्र नहीं है।”

इस संबंध में जब भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने न मैसेज के जवाब दिए न ही फोन का। यहां ये बताना जरूरी है कि द्रविड़ अंडर-19 और इंडिया-ए के कोच थे और उनके समय में ही यो-यो टेस्ट को हटा दिया गया था।

बीसीसीआई के एक कार्यकारी ने कहा कि इससे गंभीर सवाल खड़े होते हैं जिनका तुरंत समाधान होना चाहिए। उन्होंने कहा, “यह अच्छे संकेत नहीं हैं। फिटनेस भारतीय टीम की कार्यशैली का अहम हिस्सा है और अगर आप इसे ए टीम में ही रोक देंगे तो एक खिलाड़ी सीनियर टीम में किस स्थिति में पहुंचेगा और वह तालमेल बैठा नहीं पाएगा।”

उन्होंने कहा, “पूरी बात यह है कि ए टीम राष्ट्रीय टीम की सप्लाई लाइन है ताकि खिलाड़ी जब राष्ट्रीय टीम में आएं तो मानसिक तौर पर तैयार हो कर आएं, वह ऐसा महसूस न करें कि वह अलग हैं। कोहली और शास्त्री की यो-यो टेस्ट की नीति ने गजब का काम किया है और इसी कारण टीम खेल के तीनों प्रारूपों में गजब खेल रही है।”

उन्होंने कहा, “यह देखना होगा कि किसने इस प्रक्रिया को रोका और क्यों। क्योंकि इससे कोहली और शास्त्री के प्रयास विफल चले जाएंगे।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleझारखंड चुनाव : कांग्रेस-झामुमो गठबंध सरकार बनाने की ओर
Next articleझारखंड चुनाव : हर मुख्यमंत्री ने गंवाई सीट, क्या रघुवर तोड़ पाएंगे मिथक
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here