आयकर विभाग ने ऑटोमेटेड रिफंड सिस्टम के जरिए 1.27 करोड़ रुपये जारी किए : Finance Secretary

0

वित्त सचिव अजय भूषण पांडे ने शुक्रवार को कहा कि आयकर विभाग ने इस वित्तीय वर्ष में अब तक व्यक्तियों और व्यवसायों के बैंक खातों में लगभग 1,27,000 करोड़ रुपये का टैक्स रिफंड जारी किया है। नई स्वचालित प्रणाली के तहत कर रिफंड का विवरण देते हुए, पांडे ने कहा कि इस प्रक्रिया ने यह सुनिश्चित किया है कि कोविड-19 महामारी के इस कठिन समय में व्यवसायों को मूल रूप से नकदी मिलती रहे।

आयकर विभाग के पास अब रिफंड की पूरी तरह से स्वचालित प्रणाली होने के कारण भुगतान सीधे करदाताओं के बैंक खातों में बिना किसी मैनुअल इंटरफेस या हस्तक्षेप के जा रहा है।

वित्त सचिव ने कहा, ”यह एक त्वरित रिफंड भुगतान प्रणाली है, जो पूरी तरह से स्वचालित और पूर्ण पारदर्शी है। आयकर विभाग ने डीबीटी (डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर) को की तरह बनाया है, ताकि त्वरित रिफंड ट्रांसफर को बड़े पैमाने पर निर्धारित व्यक्ति के बैंक खाते में सहज तरीके से और निष्पादित किया जा सके।

उन्होंने कहा, ह्यह्यहम साप्ताहिक रिफंड प्रणाली की प्रगति की निगरानी कर रहे हैं और सार्वजनिक डोमेन में डेटा रिफंड जारी कर रहे हैं। इससे हमें करदाताओं को नकदी की सुविधा के अलावा करदाताओं और आयकर विभाग के बीच विश्वास बनाने में मदद मिलती है।

बता दें इससे पहले वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर के कार्यालय ने भी ट्वीट करके इसकी जानकारी दी थी।

ट्वीट में कहा गया है, ह्यह्य39.14 लाख करदाताओं को 1,26,909 करोड़ रुपये का कर रिफंड किया गया है। इस दौरान 37,21,584 व्यक्तिगत आयकरदाताओं को 34,532 करोड़ रुपये का रिफंड जारी किया गया है। वहीं 1,92,409 मामलों में 92,376 करोड़ रुपये का कॉपोर्रेट कर रिफंड जारी किया गया है। यह आंकड़ा 27 अक्टूबर, 2020 तक का है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleHair care tips:बालों को हेयर फॉल की समस्या से बचाने के लिए, इन बातों का रखें ध्यान
Next articleBreaking, RCB vs SRH:सनराइजर्स हैदराबाद ने टॉस जीतकर लिया पहले गेंदबाजी का फैसला
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here