इस प्रकार कर सकते है सामान्य बुखार और डेंगू के बुखार में अंतर

0
102

जयपुर। बुखार कभी भी किसी भी समय और किसी को भी हो सकती है। लेकिन ऐसी स्थिति में यह जानना मुश्किल हो जाता है कि बुखार सामन्य बुखार है या फिर डेंगू की। क्योंकि डेंगू एक खतरनाक बीमारी होती है जो कि मच्छर के काटन फैलती है। गर्मी के मौसम में डेंगू का खतरा बढ़ जाता है।

भारत में हर साल डेंगू के कारण हजारों लोगों की मौत हो जाती है। डॉक्टर बताते है कि अक्सर डेंगू का ​बुखार सामन्य बुखार से तेज होता है। कई बार इस बुखार को लोग सामान्य समझकर नजरअंदाज करते हैं या गलत इलाज कराते रहते हैं।

3-4 दिन में ही डेंगू के वायरस खतरनाक हो जाते हैं और खतरा बढ़ जाता है। कई बार तो गांवों में ऐसा भी हो जाता है कि कई झोलाछाप डॉक्टर पैसे छापने के चक्कर में सामान्य बुखार का डेंगू का बुखार बता देते हैं। इसलिए आपको डेंगू के बुखार और सामान्य बुखार में अंतर पता होना चाहिए।

तो आइए डेंग और सामान्य बुखार में कैसे अंतर समझ सकते है। साधारण बुखार डेंगू रोग की तरह संक्रामक नहीं होता, बल्कि मौसम में बदलाव के कारण अक्‍सर हो जाता है। इसके विपरीत डेंग एक संक्रामक रोग होता है, जो कि एडिज नामक मच्छर के काटने से हो सकता है।

सामान्य बुखार की बात की जाये तो ये बुखार किसी विशेष मौसम में नहीं फैलती है जबकि डेंगू का बुखार बारिश के मौसम या इसके आसपास के दिनों में होता है। सामान्यत: जुलाई से अक्टूबर तक इसके फैलने की सबसे अधिक संभावना रहती है, क्योंकि बरसात के मौसम के बाद मच्छरों की तादाद बढ़ जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here