भारत के इन 4 मंदिरों में स्त्री नहीं बल्कि पुरुषों का जाना है वर्जित

0
1375

जयपुर। आपकी जानकारी के लिए बता दें भारत में कई ऐसे मंदिर हैं जहां पर महिलाओं का प्रवेश वर्जित है। इन मंदिरों में महिलाएं जाकर पूजा नहीं कर सकती। अभी हाल ही में सबरीमाला मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं पर लगी पाबंदी हटाई थी। बता दें कि इससे पहले सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 वर्ष की स्त्रीयों को पर इस मंदिर में प्रवेश की इजाजत नहीं थी। लेकिन भारत में कुछ ऐसे मंदिर भी है जहां पर पुरुषों को प्रवेश निषेध है। इन मंदिरों में पुरुष पूजा नहीं कर सकते। इन मंदिरों की पूजा औरतें ही करती हैं। आज हम आपको इस आर्टिकल में भारत के कुछ ऐसे ही मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं। जहां पर पुरुषों का प्रवेश निषेध है।

1 बता दें कि केरल के कन्याकुमारी का यह मंदिर काफी प्रसिंद्ध मंदिर है यहां पर हर साल लाखों भक्त आकर दर्शन लाभ उठाते हैं। यह मंदिर वह जगह मानी जाती है। जहां देवी पार्वती ने भगवान शिव को पाने के लिए कड़ी तपस्या की थी। इसलिए इस मंदिर में पुरुषों को प्रवेश करने की इजाजत नहीं है।

2 बता दें कि इस मंदिर में केरल का प्रसिद्ध अट्टुल पोंगल नामक त्यौहार बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाता है। तथा इसी त्यौहार के चलते इस मंदिर में किसी भी पुरुष के प्रवेश की अनुमति नहीं होती।

3 आपकी जानकारी के लिए बात दें कि राजस्थान के पुष्कर में ब्रह्माजी की पत्नी देवी साविलत्री का एक मंदिकर है। यह मंदिर रत्नागि रि पर्वत पर स्ि्मात है। इस मंदिरर में ‌भी पुरुषों का प्रवेश निषेध है। इस मंदिर में सि र्फ महिरलाओं को प्रवेश को अधि्कार है। मान्यता है कि ब्रह्माजी ने पहले से ही एक पत्नी के होते हुए भी दूसरी शादी कर ली थी। जिाससे नाराज होकर देवी सावित्री ने ब्रह्माजी को केवल पुष्कर में ही उनका मंदिर होने का शाप दि‌या था और बाद में रत्नागिवरि पर बस गई थीं। इसलिवए इस मंदिरर में पुरुषों को प्रवेश वर्जित है।

4 आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एक ऐसी ही मंदिर आध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में स्थित है जहां पर पुरुषों को प्रवेश की इजाजत नहीं है। यह मंदिर कमाख्या देवी का मंदिर है। इस मंदिर परिसर में सिर्फ महिलाओं को पूजा करने का अधिकार है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here