निर्माण लागत को कम करने के लिए सरकार दिल्ली में मेट्रो की जगह तीन कोच वाली लाइट मेट्रो चलाएगी

0
74

जयपुर। केंद्र सरकार ने अब मेट्रो को लेकर एक बड़ा निर्णय लिया है जिसके चलते अब मेट्रो की जगह मेट्रोलाइट कॉरिडोर बनाने की योजना पर काम किया जा रहा है.

बताया जा रहा है कि इसके लिए केंद्र सरकार ने दिल्ली के मेट्रो रेल कॉरपोरेशन से रिठाला और नरेला समेत दिल्ली मेट्रो के चौथे फेज के लिए डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट को तैयार करने के लिए कहा है वही आपको बता दें कि इन रूट के लिए डीपीआर तैयार कर लिया गया था लेकिन अभी तक सरकार लाइट मेट्रो बनाना चाहती है.

वहीं इसके अलावा आपको बता दें कि लाइट मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत सरकार निर्माण कार्य की लागत में कमी लाने के लिए ऐसी योजना को तैयार कर रही है वहीं मेट्रो कॉरिडोर के मुकाबले लाइट मेट्रो के निर्माण से 25 से 40 फीसद तक कमी आ सकती है और इसके अलावा अन्य खर्चे में भी कमी देखने को मिल सकती है.

वहीं मीडिया में आई रिपोर्ट के अनुसार बताया जा रहा है कि भारत में लाइट मेट्रो एक खास तरह की की मेट्रो होगी जो मौजूदा मेट्रो रेल का एक छोटा रूप होगा और यह मौजूदा मेट्रो की तरह हंड्रेड ग्राम में नहीं चलेगी यह ट्रेन 60 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम स्पीड पर चल सकेगी.

वहीं इसके अलावा आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय ने इसकी जो स्पेसिफिकेशन फाइनल करी है उसके अनुसार स्टेशनों पर फेर कनेक्शन गेट एक्सरे मशीन वाटर डिटेक्टर आदि नहीं लगाए जाएंगे इसी तरह मौजूदा मेट्रो सिस्टम की तरह ही टोकन डालने पर ही गेट नहीं खुलेगा बल्कि इसे के लिए उसे ट्रेन के अंदर ही लगे सिस्टम में एंट्री और बाहर जाते हुए टच करना होगा इसके लिए चेकिंग भी होगी और कोई चेकिंग में ऐसा पकड़ा गया इसने अपने कार्ड को सिस्टम से टच करके सफर नहीं किया है तो उसके ऊपर भारी भरकम जुर्माना लगाया जाएगा.

आपको बता दें कि मेट्रो के खर्च को कम कर और इसे किफायती बनाने के लिए इस तरीके की कदम उठाए जा रहे हैं. आपको बता दें कि लगातार मेट्रो का प्रचलन बढ़ रहा है लेकिन इसकी लागत काफी अधिक आती है और सरकार पर एवं लोगों पर इसका असर ना पड़े इसीलिए इसकी लागत को कम कर दोनों को फायदा पहुंचाने की कोशिश करी जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here