बेनापोल के रास्ते आयात-निर्यात 3 दिन बाद बहाल

0

पश्चिम बंगाल राज्य सरकार ने बांग्लादेश के जाशोरे स्थित बेनापोल लैंड पोर्ट के जरिए बांग्लादेश से सामानों के परिवहन की अनुमति दे दी है। राज्य सरकार ने यह अनुमति तब दी है, जब कुछ दिनों पहले बांग्लादेशी निर्यातकों ने सीमा पार से आयात को ब्लॉक कर दिया।

बेनापोल-पेट्रापोल लैंड पोर्ट के जरिए निर्यात-आयात गतिविधियां रविवार शाम शुरू हो गईं। पिछले तीन दिनों से बांग्लादेशी व्यापारियों की एक हड़ताल के कारण यह गतिविधि बंद थी।

बांग्लादेश में बेनापोल लैंड पोर्ट पर व्यापारिक संगठनों ने पहली जुलाई को भारतीय वस्तुओं का आयात रोक दिया। उन्होंने यह कदम भारत की तरफ से बांग्लादेशी वस्तुओं को इंकार किए जाने के विरोध में उठाया था। इस कारण सीमा पर आयात-निर्यात पूरी तरह से ठप हो गया था।

बाद में बांग्लादेशी विदेश मंत्री, ढाका स्थित भारतीय उच्चायोग, और बेनापोल के कस्टम अधिकारियों ने रविवार दोपहर एक बैठक की, जिसमें एक सहमति बनी। परिणामस्वरूप शाम को भारतीय सामानों से लदे पांच ट्रक देश में प्रवेश किए और बांग्लादेशी सामानों से लदे पांच ट्रक भारत में प्रवेश किए।

बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए.के. अब्दुल मोमिन ने कहा कि पश्चिम बंगाल राज्य सरकार के साथ एक लंबी बातचीत के बाद बेनापोल-पेट्रापोल लैंड पोर्ट के जरिए भारत-बंगाल व्यापार फिर से शुरू हो गया है।

मोमिन ने एक वीडियो ब्रीफिंग में कहा, “हम भारत और बांग्लादेश की सरकारों ने मिलकर तय किया था कि हम अपना व्यापार जारी रखेंगे। लेकिन पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा प्रतिबंध लागू किए जाने के कारण अचानक हमारा व्यापार रोक दिया गया था।”

उन्होंने कहा, “23 मार्च से हमारे देश से सामानों से लदे किसी भी ट्रक को पेट्रापोल-बेनापोल लैंड पोर्ट के जरिए पश्चिम बंगाल में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई। हालांकि बांग्लादेशी उत्पाद त्रिपुरा और भारत के अन्य स्थानों पर सामान्य रूप से जा रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “सिर्फ पश्चिम बंगाल सरकार ने कहा कि लॉकडाउन के कारण वे किसी भी ट्रक को बांग्लादेश नहीं जाने देंगे।”

मोमिन ने कहा कि प्रारंभ में पश्चिम बंगाल सरकार ने आदेश दिया था कि यदि किसी ट्रक ने बांग्लादेश में प्रवेश किया तो ड्राइवर को सीमा में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी, और सिर्फ उत्पाद को सीमा पार करने की अनुमति होगी। यह तय किया गया कि ड्राइवर बांग्लादेश में प्रवेश नहीं करेंगे, वे सिर्फ अपने सामान को अनलोड करेंगे।

मोमिन ने कहा कि इस व्यवस्था के बाद देखा गया कि सामानों को बार-बार अनलोड करना पड़ता था, जो बहुत खर्चील साबित होता था। दूसरी बात यह कि दिन भर में चार-पांच ट्रक से ज्यादा अनलोड नहीं हो पाते थे। इस कारण से इस व्यवस्था को बंद करना पड़ा। लंबी चर्चा के बाद सामानों की रेल से ढुलाई करने का तय हुआ।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleदिल्ली में कोरोना मामलों की संख्या 1 लाख के पार
Next articleदिल्ली : काम की तलाश में फिर लौट आया परिवार
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here