आईएमएफ ने भारत का विकास अनुमान घटाकर 6.1 फीसदी किया

0
106

जयपुर। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष आईएमएफ ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के विकास हनुमान में 0.9 फीसद की बड़ी कटौती करते हुए इसे 6.1 फीसद कर दिया है.

आपको बता दें कि आईएमएफ ने मंगलवार को जारी करें कि वैश्विक आर्थिक परिदृश्य अक्टूबर 2019 की रिपोर्ट में मौजूदा वर्ष के लिए वैश्विक विकास हनुमान 3.3 फीसद से घटाकर 3 फीसद कर दिया गया है जो 2008 और साल 2009 के बाद सबसे कम रहा है.

इस वक्त देश में आर्थिक सुस्ती का माहौल बना हुआ है और इसका असर सभी जगह दिख रहा है जहां एक तरफ नौकरियां लगातार घट रही है वहीं दूसरी और अब लगातार सर्वे एजेंसियों द्वारा विकास की दर को भारत के लिए घटाया जा रहा है.

वहीं आईएमएफ के मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने कहा है कि इस समय दुनिया मंदी के दौर से गुजर रही है तथा आर्थिक विकास की गति एक दशक पहले कि आर्थिक मंदी के बाद अब तक के सबसे निचले स्तर पर रहने की आशंका भी जताई है.

वहीं इसके अलावा व्यापारिक गतिरोध व्यापार को लेकर अनिश्चितता तथा अंतरराष्ट्रीय तनाव मंदी के मुख्य कारणों में से एक बताए जा रहे हैं साल 2020 के लिए वैश्विक विकास हनुमान 3.6 फीसद से घटाकर 3.4 फीसद कर दिया गया है. वहीं आया अपने मौजूदा वित्त वर्ष के लिए भारत का विकास अनुमान 6.1 फीसद रखा था.

नहीं जुलाई में जारी करेंगे हनुमान में इसके तहत सात फीसद की दर पर रहने की बात कही गई थी और अगले वित्त वर्ष के लिए भारत का विकास अनुमान 7.2 फीसद से घटाकर 7 फीसद कर दिया गया है उल्लेखनीय है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने भी 4 अगस्त को जारी मौद्रिक नीति बयान में देश का विकास अनुमान पहले से 6.9 फीसद से घटाकर 6.1 फीसद कर दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here