IIEST Shivpur को मिला सोलर पीवी हब

0

केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा शिवपुर स्थित भारतीय अभियांत्रिकी विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान(आईआईईएसटी) में सोलर पीवी हब का उद्घाटन किया। इस अवसर पर निशंक ने कहा, “आईआईईएसटी शिवपुर, जिसे हम पहले बंगाल इंजीनियरिंग कॉलेज के नाम से जानते थे, 1856 से वैज्ञानिक सोच, समझ, ज्ञान और तकनीक को संरक्षित रखने एवं पोषित करने का कार्य बहुत जिम्मेदारी से कर रहा है। संस्थान में सोलर हब के निर्माण से निश्चित रूप से सौर ऊर्जा गतिविधियों में संलग्न पूर्वी तथा उत्तर पूर्वी क्षेत्र में कई उद्योगों और अनुसंधान संगठनों को लाभ होगा।”

सौर ऊर्जा की जरूरतों पर बात करते हुए डॉ. निशंक ने कहा, “पूरा विश्व जलवायु परिवर्तन तथा ग्लोबल वार्मिग जैसी दीर्घकालिक समस्याओं का सामना कर रहा है। ऐसे में हम सबकी जिम्मेदारी है कि हम इको फ्रेंडली तकनीकों तथा ऊर्जा के नवीन स्रोतों की तरफ अग्रसर हो। साथ ही कार्बन उत्सर्जन को कम कर तथा फॉसिल फ्यूल पर अपनी निर्भरता कम करने के लिए सौर ऊर्जा जैसे नए स्रोतों की तलाश करें एवं अनुसंधान और इनोवेशन के जरिए उन्हें कम लागत में समाज के लिए उपयोगी बनाएं।”

केंद्रीय मंत्री ने आईआईईएसटी शिवपुर की उपलब्धियों के बारे में बताते हुए कहा, “भारत का यह तीसरा इंजीनियरिंग कॉलेज 16 विभागों, आठ स्कूलों, 250 फैकेल्टी मेंबर्स तथा करीब 4000 छात्रों के साथ अनुसंधान और विकास के कार्यो में लगातार प्रगति के पथ पर अग्रसर है। संस्थान ने बौद्धिक संपदा से संबंधित नियमों, पारदर्शी प्रशासन, व्यवसायीकरण, राजस्व निर्माण आदि के संबंध में अपने छात्रों, शिक्षकों, रिसर्च स्कॉलर आदि को जागरूक करने तथा नई खोजों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स सेल का निर्माण भी किया है। इस सेल ने पिछले दो दशकों में लगभग 60 के करीब पेटेंट फाइल किए हैं।”

संस्थान का ‘रिसर्च एंड कंसल्टेंसी सेल’ एक प्रमुख इनोवेशन केंद्र है। इसके माध्यम से संस्थान इंफोसिस, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, आईबीएम, टाटा स्टील, टीसीएस जैसे विभिन्न संस्थाओं के साथ प्रायोजित रिसर्च तथा कंसल्टेंसी कार्यों में भी बहुत गंभीरता के साथ आगे बढ़ रहा है। ऐसे कार्यों से इंडस्ट्री और एकेडमी के बीच के गैप को कम करने में काफी मदद मिलती है।

न्यूज स्त्रेात आईएएनएस

SHARE
Previous articleAlia Bhatt: गंगूबाई काठियावाड़ी के बाद अगले सप्ताह आलिया शुरू करेंगी फिल्म RRR की एक्शन सीन की शूटिंग
Next articleगोवा में गंदगी फैलाने को लेकर Kangana ने करण पर साधा निशाना
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here