IGIA Terminal-2 का संचालन 1 अक्टूबर से बहाल होगा

0

राष्ट्रीय राजधानी के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे के टर्मिनल-2 में लगभग छह महीने के अंतराल के बाद एक अक्टूबर से संचालन बहाल होगा। फिलहाल, आईजीआईए में केवल टर्मिनल-3 यात्रियों की यात्रा के लिए ऑपरेशनल है।

दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट (डीआईएएल) ने एक बयान में कहा, “टी-2 पर संचालन की शुरुआत प्रतिदिन 96 हवाई ट्रैफिक गतिविधियों (48 प्रस्थान और 48 आगमन) के साथ होगी और अक्टूबर के अंत तक 180 तक बढ़ जाएगी।”

बयान में कहा गया, “टर्मिनल शुरुआती चरण में इंडिगो की 2000 सीरीज की उड़ानों और गोएयर के संपूर्ण संचालन के साथ परिचालन फिर से शुरू करेगा। लगभग 27 काउंटर –गोएयर के लिए 11 और इंडिगो के लिए 16, संबंधित उड़ानों के यात्रियों के लिए बनाए गए हैं।”

डीआईएएल के अनुसार, संचालन बहाल होने के बाद टी-2 से निर्धारित पहली उड़ान श्रीनगर जाने वाली इंडिगो विमान की होगी जो सुबह 6.25 बजे रवाना होगी।

बयान में कहा गया है, “संचालन की शुरुआत, सीरीज 2000 (6ई 2000- 6ई 2999) की सभी इंडिगो उड़ानों के टी-2 से परिचालन होने के साथ होंगी।”

इसमें आगे कहा गया, “ये टी-2 से 20 गंतव्यों के लिए उड़ान भरेंगी, जिनमें अहमदाबाद, अमृतसर, भुवनेश्वर, भोपाल, बेंगलुरु, कोच्चि, गुवाहाटी, इंदौर, जम्मू, लखनऊ, चेन्नई, पटना, श्रीनगर, त्रिवेंद्रम और विशाखापट्टनम शामिल हैं।”

अगले चरण में, 8 अक्टूबर से मुंबई, कोलकाता, कोयम्बटूर, देहरादून, गोवा, हैदराबाद, मदुरै, जयपुर और नागपुर सहित 12 और गंतव्यों के लिए उड़ानों का टी-2 से परिचालन होगा।

न्यजू सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleIPL 2020: KKR के कप्तान दिनेश कार्तिक ने उन तीन खिलाड़ियों के नाम बताए जो उन्होंने डीसी के रबाडा, अय्यर और अश्विन के लिए स्वैप किए थे
Next articlePak Hindu Council जोधपुर में 11 हिंदुओं की मौत मामले में आईसीजे का रुख करेगा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here