अगर आप ऑनलाईन ट्रांजिक्सन करते हैं तो जानिये यूपीआई क्या हैं…?

0
895

आज का दौर अधिकतर डिजिटल और कैशलैस का है शहरों  और कस्बों में प्राय: लोग ऑनलाईन ट्रांजिक्सन का सहारा लेते हैं। जैसे—जैसे डिजिटाइलेशन बढ़ता जा रहा हैं वैसे—वैसे  ऑनलाईन ट्रांजिक्सन का इस्तेमाल भी बढ़ता जा रहा हैं। क्या आपको पता है ये कितने प्रकार से होता है। और आजकल लोग किस प्रकार के ऑनलाईनट्रांजिक्सन को काम में लेते हैं च​लिये जानते हैं

ट्रांजिक्सन के प्रकार —ऑनलाईन ट्रांजिक्सन चार प्रकार से होता है 1. एनईएफटी 2.आरटीजीएस  3.आईएमपीएस 4. यूपीआई

उपरोक्त चारों ही तरीकों से हम ऑनलाईन ट्रांजिक्सन कर सकते हैं लेकिन आजकल सबसे ज्यादा प्रचलित तरीका यूपीआई है जिसका का फूल फार्म होता है— यूनिफाईड पेमेंट इंटरफेस

इसकी शरूआत 2016 में हुई थी इसे एनपीसीआई द्वारा बनाया गया था। भारत के प्रधानमंत्री के नरेन्द्र मोदी ने इसे लॉन्च किया ​था नोटबंदी के दौरन कैशलेस ट्रांजिक्सन के बढ़वा दिया गया जिसके चलते यूपीआई लॉन्च किया गया। इसकी मदद से ​बिल पेमेंट, ​सभी प्रकार के ​रिर्चाज, और एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में तुरंत पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं। इस सेवा के लिए अभी तक यूजर्स से कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं लिया जाता है। यह ऑनलाईन ट्रांजिक्सन का आसान और सबसे सुरक्षित तरीका हैं। कुछ महत्वपूर्ण यूपीआई ऐप जिन्हें आप काम में ले सकते हैं — फोन पे, भीम यूपीआई ऐप, गूगल पे, अमेजन पे  फ्री रिर्चाज,  इत्यादी। कईं यूपीए ऐप ग्राहकों को आर्कषित करने के लिए कैशबैक भी देते हैं जिसका फायदा ऑनलाईन ट्रांजिक्सन करने पर उठा सकते हैं।

आपको बता दें इन सभी यूपीआई ऐप से होने वाले ट्रांजिक्सन आरबीआई की निगरानी में होते हैं। इन सभी यूपीआई ऐप को आप प्ले स्टारे से डाउनलोड़ कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here