Navratri 2020: नवरात्रि के दौरान आ जाए मासिक धर्म, तो ऐसे करें व्रत पूजन

0

नवरात्रि के त्योहार को हिंदू धर्म में बहुत ही खास माना जाता हैं मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा इस पर्व में की जाती हैं मां दुर्गा की अखंड ज्योतिष और कलश स्थापना कर भक्त व्रत उपवास भी करते हैं नवरात्रि के दिनों में खुद व घर की साफ सफाई का ध्यान रखना जरूरी होता हैं मगर कई बार इन दिनों में महिलाएं मासिक धर्म चक्र में आ जाती हैं तो ऐसे में उन्हें मंदिर जाने की मनाही हो जाती हैं ऐसे में महिलाओं को इसी बात की चिंता रहती हैं कि अब वह व्रत व माता की पूजा कैसे करेगी। शास्त्रों के मुताबिक कुछ नियमों का पालन कर आप पूजा भी कर सकती हैं और व्रत भी रख सकती हैं तो आज हम आपको इन्हीं नियमों के बारे में बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

​वही जिन महिलाओं को नवरात्रि के बीच यह मासिक धर्म होने की आशंका हो वह पला और आखिरी व्रत रख सकती हैं अगर आपको इन दिनों कमजोरी महसूस नहीं होती हैं तो आ इस दौरान मंदिर में जाने व माता की मूर्ति को छूने से बचना चाहिए। भगवान तो भक्तों की सच्ची भक्ति और श्रृद्धा देखते हैं ऐसे में शरीर से पहले मन शुद्ध होना जरूरी होता हैं। मासिक धर्म में मंदिर जाने और किसी भी धार्मिक चीज व किताब को छूने की मनाही होती हैं ऐसे में निराश होने की जगह आप अपने मोबाइल या लैपटॉप पर आनलाइन पाठ पढ़ और सुन सकती हैं इसके लिए पहले स्नान कर साफ होना जरूरी हैं। फिर किसी एकांत स्थान पर बैठकर मन से मां की भक्ति करें। पहले से ही व्रत रखने का संकल्प ले चुकी हैं तो पूजा खुद न करें। घर में पूजा रूम में न जाएं। देवी मां के व्रत रख घर के किसी सदस्य से अपना नाम लेकर पूजा करवा सकती हैं अगर आप चाहे तो पाठ भी उनसे सुन सकती हैं।

अगर आप इन दिनों में ठीक नहीं हैं तो ऐसे में निराश न हो। ऐसे में देवी मां दुर्गा का मन से जाप करें। नवरात्रि के नौ दिन के व्रत पूरे करने पर अगर आखिर ​व्रत में मासिक धर्म की परेशानी होती हैं तो अपना व्रत पूरा करें। ऐसे में जिस समय आप ठीक हो जाए दोबार सिर से नहा कर साफ कपड़े पहने। फिर देवी मां की पूजा करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here