जियो इंस्टीट्यूट पर हंगामा, एचआरडी मंत्रालय ने दी सफाई

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने देश के 6 विश्वविद्यालयों को उत्कृष्ट संस्थानः इंस्टीट्यूशन्स ऑफ इमिनेंस का दर्जा दिया। बिट्स पिलानी और जियो इंस्टीट्यूट को भी शामिल किया है

0
457

नई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने देश के 6 विश्वविद्यालयों को उत्कृष्ट संस्थानः इंस्टीट्यूशन्स ऑफ इमिनेंस का दर्जा दिया। इनमें IIT दिल्ली और बंबई, IISC बेंगलुरु शामिल हैं। निजी क्षेत्र में मनिपाल एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन,बिट्स पिलानी और जियो इंस्टीट्यूट को भी शामिल किया है। इन यूनिवर्सिटीज को वैश्विक स्तर पर गुणवत्ता के लिए विशेष रूप से फंडिंग के साथ स्वायत्ता हासिल होगी।

हालांकि जियो इंस्टीट्यूट बनने से पहले ही विवादों में घिरा हुआ नजर आ रहा है। कांग्रेस ने इस इंस्टीट्यूट को लेकर केंद्र सरकार से सवाल किया है। कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा कि बीजेपी सरकार ने अंबानी का पक्ष लिया है।  जो इंस्टीट्यूट अभी बना भी नहीं है, उसे इमिनेंट इंस्टीट्यूट का दर्जा दे दिया गया है। केंद्र सरकार बताए कि किस आधार पर इस विश्वविद्यालय का ग्रांट के लिए वर्गीकरण किया गया।

इस मसले पर HRD मंत्रालय ने सफाई देते हुए कहा कि ग्रीनफील्ड कैटेगिरी के तहत जियो इंस्टीट्यूट को शामिल किया गया है। उच्च शिक्षा विभाग के सचिव आर सुब्रह्मण्यम ने कहा कि जियो इंस्टीट्यूट को तीसरी कैटेगिरी में चुना गया है। इसका उद्देश्य नए संस्थानों को प्रोत्साहित करना है,जो विश्व स्तर के इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार करने और शिक्षा देने में सक्षम हैं। तीन आधार पर विभिन्न शिक्षण संस्थानों को यह रैंकिंग दी गई। पहली कैटेगिरी में सरकारी शिक्षण संस्थान(IIT) हैं, दूसरी में कैटेगिरी में बिट्स पिलानी और मनिपाल यूनिवर्सिटी जैसे शिक्षण संस्थान हैं। रिलायंस की जियो इंस्टीट्यूट को तीसर कैटेगिरी में शामिल किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here