कैसे फैलता है निपाह वायरस, जानिए बचाव के तरीके

0

जयपुर. देश में अब तक निपाह वायरस एक चुनौती बना हुआ है। इस वायरस की वजह से अब तक कई लोगों की जान जा चुकी है। हाल ही में कलकत्ता में एक सेना के जवान की भी मौत हुई है। ऐसा माना जा रहा है कि वह वह भी इसी वायरस का शिकार हुए थे। हमारे देश में इस खतरनाक वायरस की रोकथाम के लिए अभी ठोस उपाय नहीं है। आइए आपको बताते है इस वायरस के शुरूआती लक्षणों के बारे में…….

संक्रमण फैलने के बाद लक्षण दिखाई देने में करीब एक सप्ताह लग जाता है। दिमाग को बिमार कर देने वाला ये वायरस अक्सर बुखार से शुरू होता है। इसके फैलते ही रोगी को तेज सीरदर्द के साथ बुखार आता है। साथ ही मरीज का दिल घबराता है और हल्की नींद आने लगती है। इसके फैलने से व्यक्ति मानसिक रूप से बिमार हो जाता है क्योकी ये सबसे ज्यादा मष्तिस्क पर ही असर करता है। रोगी को बार –बार उल्टी की शिकायत रहती है। इसके संक्रमण के बाद से मरीज की मांसपेशियों में दर्द रहता है। और गले में खराश रहती है।  अक्सर कई मामलों में देखा गया है कि यह इतना जल्दी मरीज के अंदर फैलता है कि इससे आदमी मात्र 48 घंटों में ही कोमा में चला जाता है। आपको बता दे कि इस वायरस के लक्षण कई सारी सामान्य बिमारियों से भी मिलते है। इसलिए आशंकित नहीं हो और अपने नजदीकी अस्पताल में जाकर इसकी जांच करवाए।

जानिए कैसे फैलता है ये वायरस

यह केवल इंसानों में ही नहीं कुछ जानवरों में भी पाया जाता है। यह प्रमुख रूप से तो चमगादड़ में पाया जाता है। जब चमगादड़ किसी फल या कोई भी वस्तु के संपर्क में आती है वह वस्तु संक्रमित हो जाती है।

निपाह से बचने के तरीके

1 हमारे देश में इस वायरस के इलाज के लिए अभी तक कोई वैक्सीन नहीं बना है।

2 दक्षिण भारत से आए हुए फलों के सेवन से बचें. खासकर खजूर खाने से दूर रहे

3 फल खरीदते समय इस बात का विशेष ध्यान रखे की फल पर किसी पक्षी की चोंच का निशान तो नहीं है।

4 उन जगहों पर जाने से बचें जहां सुअर व चमगादड़ों की तादाद ज्यादा हो। साथ ही ऐसे स्थानों पर नहीं जाए जहां जंगली झाड़ या कोई जंगली जानवर रहते हो।

5 बाहर से घर आते ही हाथों को साबुन लगाकर अच्छी तरह से साफ करे।

अभी तक यह वायरस दक्षिण भारत में केरल और पूर्वी भारत में पश्चिमी बंगाल तक ही सीमित है। लेकिन इसके अन्य राज्यों में भी फैलने की आशंका बनी हुई है। समझदारी इसी में है की हम सतर्क रहकर इस खतरनाक बिमारी को फैलने से रोके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here