घातक कहे जाने वाले रासायनिक हथियारों का सच जानिए यहां पर

0
106
SAUDI ARABIA - MARCH 1990: Syrian troops photographed during a gas mask training exercise during the run up to the first Gulf War. (Photo by Tom Stoddart/Getty Images)

दुनिया में सबसे खतरनाक हथियारों की श्रेणी में आते हैं रासायनिक हथियार, जिन्हें केमिकल वेपन भी कहा जाता है। सारी दुनिया परमाणु हमले से भी ज्यादा इन हथियारों से खौफ खाती है। इन हथियारों को गैस या तरल किसी भी रूप में काम में किया जा सकता हैं। विशेषज्ञों की माने तो रासायनिक हथियार बहुत तेजी से फैलतें है और भारी तबाही मचाते हैं।

रासायनिक हथियारों में विषैली गैस, ठोस या तरल पदार्थ होने के कारण यह पर्यावरण को दूषित करके इंसानी नस्ल को खत्म कर देते हैं। हालांकि कई देश इनका विरोध भी कर चुके हैं फिर भी इनका निर्माण चोरी छुपे कई देशों में किया जा रहा है। तो आइए आपको कुछ मुख्य रासायनिक हथियारों के बारे में जानकारी देते हैं।

वीएक्स: यह एक बहुत ही जहरीला रासायनिक मिश्रण होता है। हालांकि दिखने में थोड़ा तैलीय पदार्थ की तरह होता है, लेकिन इसकी कोई गंध और रंग नहीं होता है। यह मनुष्य के तंत्रिका तंत्र पर बहुत बुरा असर डालता है।

सारीन: आपको बता दे कि 1938 में कुछ जर्मन वैज्ञानिकों ने इस रासायनिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया था। इसे नर्व गैस भी कहा जाता है। यह वाष्पशील होने की वजह से आसानी से गैस में परिवर्तित हो जाता है।

मस्टर्ड गैस: मस्टर्ड गैस को सबसे घातक माना गया है। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान इसका इस्तेमाल किया गया था। यह गैस कपड़ों को भेदती हुई चमड़ी में समा जाती है। यह गैस आंखों, श्वसन तंत्र, त्वचा और कोशिकाओं पर सीधा वार करती है। इस गैस के त्वचा के संपर्क में आने से खुजली और जलन होती है। हालांकि कई देश रासायनिक हथियारों पर प्रतिबंध लगाने की वकालत कर चुके हैं लेकिन यह आज भी गुपचुप तरीके के बनाए जाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here