हार्ट डिजीज और बढते वजन से छुटकारा दिला सकती है उङद की दाल

0

उङद की दाल में सेहत के लिए जरूरी विटमिन्स, प्रोटीन और मिनरल्स पाये जाते हैं। उड़द को टर्टल बीन्स और ब्लैक होल बीन्स के नाम से भी जाना जाता है। उड़द की फलियायों को भी खाया जाता है, ये सेहत के लिए फायदेमंद होती हैं। इन्हें अलग-अलग जगह पर लोग अलग-अलग प्रकार से खाते है।


हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार उड़द दाल खाने से कॉलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है क्योंकि उड़द दाल में विटमिन बी-6, फोलेट, पोटैशियम और फाइबर पाया जाता हैं, जो सभी दिल को स्वस्थ रखने के काम करते हैं और रक्त में कॉलेस्ट्रॉल का स्तर घटाते हैं। इससे दिल की बीमारियों का खतरा कम जाता है।

उड़द में आयरन, फॉस्फोरस, कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैग्नीज,कॉपर और जिंक जैसे जरूरी तत्व पाए जाते हैं जो हमारे सेहत के लिए जरूरी है। मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और कैल्शियम हमारी हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करते हैं और जिंग हमारी हड्डियों का आकार बनाए रखने का काम करते हैं।

यूनाइटेड स्टेट फूड ऐंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) के अनुसार, हमें हर दिन 2 हजार कैलरीज की जरूरत होती है। इसके अनुसार हमारी डायट में कम से कम 25 ग्राम फाइबर हर दिन होना चाहिए। उड़द दाल में अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है। उङद दाल में सेलेनियम नाम का मिनरल पाया जाता है। उड़द दाल में पाया जानेवाला सेलेनियम लिवर एंजाइम के कार्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

यह शरीर में कैंसर पैदा करनेवाले हानिकारक पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने का काम करता है। साथ ही यह शरीर में सूजन को रोकता है और ट्यूमर बनाने वाली ग्रंथियों को बनने से रोकता है। उड़द दाल फाइबर से भरपूर होते हैं, इसलिए उड़द दाल खाने के बाद कई घंटों तक पेट भरा-भरा रहता है। फाइबर आपको लम्बे समय तक पेट भरा होने का अहसास बनाए रखती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here