हरियाणा चुनाव : पूर्व दिग्गजों के वंशज चुनाव मैदान में !

0
80

हरियाणा में, राजनीति की बात करें तो विरासत सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा है। राज्य में एक समय तीन लाल -देवी लाल, बंसी लाल और भजन लाल- का शासन था, और राज्य अब इस 90 विधानसभा सीटों के चुनाव में इन वंशों की तीसरी या चौथी पीढ़ी को चुनाव लड़ते देखेगा। राज्य में 21 अक्टूबर को मतदान होना है।

‘लाल’ वंश के 10 सदस्य इस बार चुनाव मैदान में हैं।

चार बार राज्य के मुख्यमंत्री रहे और दो बार केंद्रीय मंत्री रहे बंसीलाल के परिवार के तीन सदस्य और तीन बार मुख्यमंत्री रहे भजन लाल के दो पुत्र भी इस बार चुनावी मैदान में हैं।

परिवार द्वारा शासित स्थानीय राजनीति समूह इंडियन नेशनल लोकदल(इनेलो) की स्थापना करने वाले पूर्व उप प्रधानमंत्री देवी लाल के पांच रिश्तेदार चुनाव लड़ रहे हैं।

बंसी लाल की बहू किरण चौधरी इस बार भी परिवार की सुरक्षित सीट तोशाम से चौथी बार चुनाव जीतना चाहती हैं।

किरण चौधरी के जेठ और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड(बीसीसीआई) के पूर्व अध्यक्ष रणबीर महेंद्र बधरा से चुनाव मैदान में हैं। वह 2014 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से भाजपा के 29 वर्षीय सुखविंदर सिंह से हार गए थे।

दिवंगत बंसीलाल के परिवार से चुनाव मैदान में एक अन्य सदस्य उनके दामाद और पूर्व विधायक सोमवीर सिंह शेरान हैं, जो लोहारू से चुनाव लड़ रहे हैं।

बंसी लाल राज्य के चार बार मुख्यमंत्री रहे। वह पहली बार 1968 में और अंतिम बार 1996 से 1999 तक राज्य के मुख्यंत्री थे। उन्होंने अपने चिर प्रतिद्वंद्वी भजन लाल और देवी लाल को हराकर विशेष ख्याति अर्जित की थी।

बंसी लाल के वंशज कांग्रेस उम्मीदवारों के रूप में लड़कर अपने परिवार की विरासत को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

विधायक कुलदीप बिश्नोई को दोबारा आदमपुर से और उनके बड़े भाई व हरियाणा के पूर्व उपमुख्यमंत्री चंद्रमोहन को पंचकुला से टिकट दिया गया है। गुरुग्राम में प्रमुख व्यापारिक स्थल पर स्थित बिश्नोई के 150 करोड़ रुपये मूल्य के होटल को आयकर विभाग ने बेनामी संपत्ति के रूप में जब्त कर लिया है।

दोनों कांग्रेसी उम्मीदवार हैं।

बिश्नोई के बेटे भव्य ने मई में कभी परिवार का मजबूत गढ़ माने जाने वाले हिसार संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा था, लेकिन उनकी जमानत तक जब्त हो गई थी।

चंद्रमोहन ने 2008 में अपने प्यार के लिए राजनीति छोड़ दी थी। उन्होंने पंजाब में पूर्व डिप्टी एडवोकेट जनरल से शादी करने के लिए इस्लाम अपना लिया था और अपना नाम बदलकर चांद मोहम्मद रख लिया था।

हांसी की विधायक और कुलदीप बिश्नोई की पत्नी रेणुका बिश्नोई को कांग्रेस ने इस बार टिकट नहीं दिया क्योंकि उन्होंने ही चुनाव नहीं लड़ने की इच्छा जाहिर की थी। वहीं एकमात्र निवर्तमान विधायक हैं, जिन्हें टिकट नहीं दिया गया।

फतेहाबाद बाद से भाजपा उम्मीवार दुरा राम भी भजनलाल परिवार से ताल्लुक रखते हैं। वह 21 सितंबर को चुनाव की घोषणा के दिन भाजपा में शामिल हो गए थे।

पूर्व उपप्रधानमंत्री देवी लाल के परिवार के पांच सदस्य चुनाव मैदान में हैं।

उनके बेटे रंजीत सिंह को कांग्रेस ने टिकट नहीं दिया, जिसके बाद उन्होंने सिरसा जिले के रानिया से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन भरा।

इंडियन नेशनल लोक दल(आईएनएलडी) की अगुवाई कर रहे ओ.पी चौटाला ने देवी लाल के पोते अभय सिंह चौटाला को सिरसा के एलनाबाद सीट से चुनाव मैदान में उतारा है।

आईएनएलडी से टूटकर बनी जननायक जनता पार्टी(जेजेपी) की अगुवाई देवीलाल के दूसरे पोते अजय चौटाले कर रहे हैं।

जेजेपी ने परिवार के दो सदस्यों-अजय के पुत्र दुष्यंत चौटाला को जिंद के उचाना कलां से और उनकी पत्नी नैना चौटाला को भिवानी जिले के बधरा से चुनाव मैदान में खड़ा किया गया है।

भाजपा ने देवी लाल के पोते आदित्य देवी लाल को सिरसा के देबवाली से टिकट दिया है।

अजय चौटाला और चार बार के मुख्यमंत्री व देवी लाल के पुत्र ओम प्रकाश चौटाला शिक्षक भर्ती परीक्षा घोटाला मामले में दोषी साबित होने के बाद तिहाड़ जेल में 10 वर्ष की सजा काट रहे हैं।

भजन लाल गैर-जाट नेता थे, जबकि देवी लाल को जाटों का नेता माना जाता था, और ग्रामीण जनता का उन्हें अपार समर्थन हासिल था।

दो बार मुख्यमंत्री रहे कांग्रेस के भूपिंदर सिंह हुड्डा रोहतक में गढ़ी सांपला-किलोई क्षेत्र से चुनाव मैदान में हैं। वह अविभाजित पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी रणबीर सिंह के बेटे हैं।

पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह की पत्नी और निवर्तमान भाजपा विधायक प्रेमलता एक अन्य जाट नेता जेजेपी के दुष्यंत चौटाला के खिलाफ चुनाव मैदान में हैं। सिंह राज्य के जाट नेता सर छोटु राम के पोते हैं।

2014 के विधानसभा चुनाव में, उन्होंने दुष्यंत को 7,480 मतों से हराया था।

हिसार लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाले उचाना कलां का बीरेंद्र सिंह ने 1977 से पांच बार प्रतिनिधित्व किया है।

स्वतंत्रता सेनानी राजा राव तुला राम के वंशज केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह की अहीर समुदाय में अच्छी पकड़ है। वह इस चुनाव में अपनी बेटी आरती राव के लिए टिकट चाह रहे थे, लेकिन भाजपा ने उनकी बेटी को टिकट नहीं दिया।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleहरियाणा चुनाव : कांग्रेस कर सकती है कृषि ऋण माफी का वादा
Next articleपाकिस्तान के शासन में सेना का बढ़ता प्रभाव, प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ सेना प्रमुख का चीन दौरा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here