Hanuman puja: इन नियमों से करें हनुमान जी की साधना, पूरी होगी हर इच्छा

0

प्रभु श्रीराम के परम भक्त हनुमान को कलयुग का प्रमुख देवता माना जाता हैं ऐसी मान्यता है कि कलयुग में हनुमान जी ही ऐसे देव हैं जो अपने भक्त की पुकार जल्दी सुनते हैं और अपने भक्त का कष्ट दूर करते हैं हनुमान जी की पूजा करना सरल भी हैं ऐसा माना जाता है कि कलयुग में हनुमान जी की साधना करने वाले जातक को किसी भी तरह का कोई भय नहीं रहता हैं उनके शत्रुओं का विनाश हो जाता हैं भक्त की सभी कामनाएं पूरी होती हैं लेकिन हनुमान जी की साधना के भी कुछ नियम हैं तो आज हम आपको उन्हीं नियमों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

जानिए नियम—
हनुमान जी की साधना करने से पहले व्यक्ति को शुद्ध और पवित्र होना जरूरी हैं हनुमान जी की साधना करने के लिए साधक को ब्रह्मचर्य का भी पालन करना चाहिए। साधना करते वक्त तिल में सिंदूर को मिलकार ही उसका लेपन हनुमान जी को करना चाहिए और केसर युक्त लाल चंदन लगाना चाहिए। हनुमान जी को चढ़ाने वाला प्रसाद भी शुद्ध देशी घी में बना होना चाहिए। हनुमान जी को पुष्प चढ़ाते समय ध्यान देना चाहिए कि उन्हें केवल लाल और पीले पुष्प ही अर्पित करें। ऐसा भी कहा जाता हैं कि हनुमान जी को गेंदा, सूरजमुखी और कमल के पुष्प से बहुत प्रसन्न होते हैं। साधना में सामान्य रूप से दो तरह की माला का प्रयोग किया जाता हैं जिसमें सात्विक कार्य की सफलता के लिए रुद्राक्ष की माला का प्रयोग ज​बकि तामसी कार्य की सफलता के लिए मूंगे की माला का प्रयोग किया जाता हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here