गुजरात कांग्रेस की बढ़ी मुश्किलें, राज्यसभा चुनाव से पहले 2 और विधायकों का इस्तीफा

0

गुजरात की राज्यसभा सीटों के लिए होने जा रहे चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी को एक तगड़ा झटका लगा है। गुजरात कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ाते हुए पार्टी के दो विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है। उनके अपने पद से त्यागपत्र देने के बाद कांग्रेस के विधायकों की संख्या विधानसभा में और कम हो गई है। पार्टी के लिए अब राज्यसभा की दूसरी सीट जीतना मुश्किल भरा होगा।

जिन दो विधायकों ने इस्तीफा दिया, वे करजन से अक्षय पटेल और कपराडा सीट से जीतू चौधरी हैं।

गुजरात विधानसभा के अध्यक्ष राजेंद्र त्रिवेदी ने कहा, “दोनों कांग्रेस विधायक कल (बुधवार) शाम त्यागपत्र के साथ मेरे पास आए। मैंने उनका सत्यापन किया। उन्होंने मास्क (कोविड-19 संक्रमण के मद्देनजर) लगाए थे। मैंने उन्हें उसे हटाने के लिए कहा और उनके चेहरों की पहचान करने के बाद फिर उनके इस्तीफे स्वीकार कर लिए। वे अब सदन के सदस्य नहीं हैं।”

कांग्रेस ने दो उम्मीदवारों- शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी को मैदान में उतारा है। गोहिल को पहली वरीयता का वोट मिलेगा और उनका राज्यसभा के लिए निर्वाचित होना निश्चित है, लेकिन भरत सिंह सोलंकी का भविष्य अधर में लटका है। अब केवल प्रबंधन कौशल ही उन्हें निर्वाचित कर सकता है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन मोडवाडिया ने आईएएनएस से कहा, “भाजपा हमारे विधायकों को लुभाने के लिए पैसे के साथ ही धमकी का इस्तेमाल कर रही है। अक्षय पटेल की खनन में व्यावसायिक हित हैं और इसलिए उन्हें लालच दिया गया है।”

कांग्रेस ने पहले राजीव शुक्ला को नामित किया था लेकिन राज्य इकाई के विरोध के बाद पार्टी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री भरत सिंह सोलंकी को मैदान में उतारा है।

पार्टी के एक नेता ने कहा, “कांग्रेस को दोनों सीटों पर जीत के लिए जरूरी 71 वोटों की जरूरत है, लेकिन अब ताजा इस्तीफे के बाद संख्या कम हो गई है, जबकि भाजपा को अपने तीन उम्मीदवारों के लिए 106 वोटों की जरूरत है और वर्तमान में इसकी संख्या विधानसभा में 103 है। भाजपा ने तीसरी सीट जीतने के लिए कांग्रेस को फंसाया है।”

नयूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleस्नैपड्रैगन 765G चिपसेट के साथ iQOO Z1 5G का सस्ता संस्करण जल्द हो सकता है लॉन्च
Next articleOppo A12, A52 अगले हफ्ते भारत में हो सकते हैं लॉन्च, जानें फीचर्स
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here