नवंबर में जीएसटी संग्रह 6 फीसदी बढ़ा, राजकोषीय घाटे में मिलेगी राहत

0

जीएसटी संग्रह बीते महीने नवंबर में फिर एक लाख करोड़ के पार चला गया, जो पिछले साल के इसी महीने के आंकड़े से छह फीसदी ज्यादा है। त्योहारी सीजन के दौरान उपभोक्ता मांग में तेजी आने से नवंबर महीने में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह छह फीसदी की वृद्धि के साथ 1.03 लाख करोड़ रुपये हो गया।

इससे पहले दो महीनों के दौरान जीएसटी संग्रह की वृद्धि दर नरम रहने के बाद फिर सकारात्मक वृद्धि का संकेत मिला है।

नवंबर के दौरान घरेलू लेनदेन पर जीएसटी संग्रह में 12 फीसदी की वृद्धि देखी गई, जो वर्ष के दौरान सबसे अधिक रही। हालांकि आयात पर जीएसटी संग्रह में 13 फीसदी की गिरावट रही।

वित्त मंत्रालय के एक बयान में कहा गया, “नवंबर 2019 में सकल जीएसटी राजस्व 1,03,492 करोड़ रुपये रहा, जिसमें सीजीएसटी 19,592 करोड़ रुपये और एसजीएसटी 27,144 करोड़ रुपये का संग्रह हुआ। इस दौरान आईजीएसटी 49,028 करोड़ रुपये (आयातों पर एकत्र 20,048 करोड़ रुपये सहित) रहा। वहीं उपकर (सेस) 7,727 करोड़ रुपये (आयात पर 869 करोड़ रुपये शामिल हैं) का संग्रह हुआ।”

अक्टूबर महीने के लिए 30 नवंबर, 2019 तक दायर जीएसटीआर 3-बी रिटर्न, मासिक रिटर्न की कुल संख्या 77.83 लाख रही।

जुलाई, 2017 में जीएसटी लागू होने के बाद यह आठवां मौका है, जब इसका मासिक संग्रह एक लाख करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर गया है। वहीं, जीएसटी लागू होने के बाद नवंबर 2019 का संग्रह जीएसटी तीसरा सबसे अधिक मासिक संग्रह है। इससे ज्यादा जीएसटी संग्रह अप्रैल, 2019 और मार्च, 2019 में हुआ था।

डिलाइट इंडिया के पार्टनर एम. एस. मणि ने कहा, “त्योहारी महीने में एक लाख करोड़ रुपये के जीएसटी संग्रह को पार करना राजकोषीय घाटे को नियंत्रण में रखने में मदद करेगा। उम्मीद है कि आने वाले महीनों में यह प्रवृत्ति जारी रहेगी।”

न्यूज स्त्रोत आइएएनएस


SHARE
Previous articleआखिर किसने कहा डेविड वॉर्नर ने महात्मा गांधी के राह पर चलकर बनाया तिहरा शतक
Next articleVivo U20 का नया 8GB रैम वैरिएंट भारत में 12 दिसंबर को होगा लॉन्च होगा, इतनी होगी कीमत
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here