ग्रोफर्स ने एफएमसीजी सेगमेंट में रखा कदम, 2,500 करोड़ के कारोबार का लक्ष्य

0
79

ऑनलाइन रिटेल सुपरमार्केट ग्रोफर्स ने गुरुवार को दो श्रेणियों, बजट और पॉपुलर जी ब्रांड्स के तहत सात नए ब्रांडों की पेशकश कर एफएमसीजी सेगमेंट में कदम रखने की घोषणा की। कंपनी ने एक बयान में कहा कि इसके साथ ही ग्रोफर के प्राइवेट लेबल का विस्तार हो गया है। ग्रोफर के पोर्टफोलियो में अब ग्राहकों के लिए 250 से अधिक फूड और नॉनफूड उत्पाद शामिल हैं। ग्रोफर का लक्ष्य अपने मंच पर 10 करोड़ नए उपभोक्ताओं को लाकर ई-कॉमर्स सेक्टर में विकास की नई बयार को बढ़ावा देना है। कंपनी ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए 2500 करोड़ रुपये का कारोबार लक्ष्य तय किया है और इस तरह कंपनी वृद्धि को लेकर सकारात्मक है।

पॉपुलर जी ब्रांड्स की श्रेणी में कंपनी ने ‘जी मदर चॉइस’, ‘जी हैप्पी डे’ और ‘जी हैप्पी होम’ समेत विभिन्न ब्रांड्स के तहत प्रीमियम क्वॉलिटी प्रोडक्ट उपभोक्ताओं को ऑफर किए हैं। बजट कैटेगरी के तहत कंपनी के ब्रांड्स में ‘हैव मोर’ और ‘सेव मोर’ शामिल है। यह उन उपभोक्ताओं को देखते हुए बनाए गए हैं, जो कीमतों के मामले में बहुत संवेदनशील होते हैं। ‘जी हैप्पी डे’ और ‘हैव मोर’ ब्रांड्स में अलग-अलग तरह के फूड प्रोडक्ट्स शामिल हैं, जिसमें चाय, फ्रूट जैम, मुसली, टोमैटो कैचअप, कॉर्न फ्लेक्स, रोज शाही शरबत आदि शामिल हैं।

‘जी हैप्पी होम’ और ‘सेव मोर’ ब्रांड्स में डिटर्जेट, घरेलू समान, मुंह की देखभाल के प्रोडक्ट्स, टिश्यू और डिस्पोजेबल, किचन के उपकरण और एक्सेसरीज, फर्नीचर और स्टोरेज समेत कई अन्य उत्पाद शामिल है।

‘जी मदर्स चॉइस’ ई-ग्रोफर का प्रमुख ब्रांड है जो उपभोक्ताओं को बाजार में मौजूद अच्छी गुणवत्ता और कम दाम के फूड आइटम्स की लंबी-चैड़ी रेंज मुहैया कराता है। जी-ब्रांड्स और बजट श्रेणी दोनों के तहत बेहतरीन क्वॉलिटी वाले प्रोडक्ट्स का वर्गीकरण किया गया है, जो रोजमर्रा की खरीद में उपभोक्ताओं की बचत को बढ़ाएंगे।

कंपनी का दावा है कि ग्रोफर के प्राइवेट लेबल रेंज के प्रोडक्ट की कीमत बाजार में मौजूद लोकप्रिय ब्रांड्स से 5 से 50 फीसदी तक कम रखी गई है।

ग्रोफर्स के सह-संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी अलबिंदर ढींढसा ने कहा, “भारत में कंपनी के अगले चरण के विकास के लिए यह विस्तार बहुत जरूरी है। पिछले पांच वर्षों में हमें अपने ग्राहकों से जबरदस्त रेस्पांस मिला है। अपनी इंडस्ट्री संबंधी अनेक पहलों से हम नए उपभोक्ताओं को ई-कॉमर्स के दायरे में लाने में सफल रहे हैं। इसमें से 15 फीसदी उपभोक्ता हमारे यहां से हर महीने राशन के सामान की खरीदारी करते हैं। हमारा फोकस वास्तविक भारत के आम आदमी और उन परिवारों को ई-कॉमर्स के प्लेटफॉर्म पर लाना है, जिन्होंने अब तक ई-कॉमर्स की दुनिया का अनुभव नहीं किया है। हमारा लक्ष्य अपने मंच के माध्यम से अगले 10 करोड़ नए ग्राहकों को ई-कॉमर्स इंडस्ट्री की ओर आकर्षित करना है।”

ग्रोफर्स के संस्थापक सौरभ कुमार ने कहा, “खुदरा बाजार में अच्छी क्वॉलिटी के सामान कम से कम कीमत में मुहैया कर कंपनी की बाजार में तहलका मचाने की योजना है। अपने इसी लक्ष्य को पूरा करने के लिए कंपनी के प्रोडक्ट्स को 2 नई कैटेगरी में बांटा गया है, जो अलग-अलग कीमत पर अलग-अलग श्रेणी के उपभोक्ताओं की जरूरतों की पूर्ति करती है। हम ‘एव्री डे लो प्राइसेस’ (ईडीएलपी) यानी हर दिन कीमत कम रखने का वादा निभा रहे हैं, जिसे अब तक किसी ने चुनौती नहीं दी है। यह विस्तार घर में ही विकसित ब्रांड के रूप में हमारी सफलता की कहानी में एक और मील का पत्थर है। यह देश में ई-कॉमर्स की प्रणाली को निश्चित रूप से आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।”

ग्रोफर्स ने वित्त वर्ष 2017-18 में 950 करोड़ की बिक्री की और 2018-19 में कंपनी का लक्ष्य मजबूती से विकास करने का है, जिसमें 50 फीसदी योगदान इसके प्राइवेट ब्रांड्स का होगा।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here