Green Tea: क्या आप ग्रीन टी के आदी हैं? तो, इस पर ध्यान न दें

0

आजकल ‘ग्रीन टी’ का चलन बहुत तेजी से बढ़ रहा है। ‘ग्रीन टी’ अपने एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण मध्यम और उच्च मध्यम वर्ग के परिवारों का पसंदीदा पेय बन गया है। कई लोग दूध वाली चाय के बजाय ‘ग्रीन टी’ पसंद करते हैं। कई लोग वजन बढ़ाने के बाद आपको ग्रीन टी पीने की सलाह देते हैं। विशेष रूप से, हरी चाय पानी के बाद दुनिया में सबसे प्रसिद्ध पेय बन गई है। ग्रीन टी में पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ग्रीन टी के 16 फायदे, बनाने की विधि और नुकसान - All About Green Tea in Hindi

जो शरीर के वजन में वृद्धि को नियंत्रित करने में मदद करता है और मोटापा कम करता है। ग्रीन टी को आपकी त्वचा के लिए भी अच्छा माना जाता है। हालांकि, कुछ लोग हर दो घंटे में ग्रीन टी पीते हैं। जिससे उनके शरीर को नुकसान हो सकता है। हमारे शरीर में चयापचय नामक एक तत्व होता है। हम शरीर को कुछ भी खाने या पीने के बाद अपने रूपांतरण को मजबूत करने में मदद करते हैं।

ग्रीन टी में मौजूद तत्व शरीर में चयापचय कारक को बढ़ाते हैं। इससे वजन कम होता है। लेकिन वजन कम करने के लिए आपको ग्रीन टी के साथ-साथ नियमित व्यायाम की आवश्यकता होती है। साथ ही, कुछ लोग खाली पेट ग्रीन टी पीते हैं, जिसका हमारे शरीर पर गंभीर प्रभाव हो सकता है। यही कारण है कि आपको खाली पेट कभी भी ग्रीन टी नहीं पीनी चाहिए। अगर आप वजन कम करने के लिए ग्रीन टी पीते हैं, तो नाश्ते या लंच के बाद ग्रीन टी पिएं।

तो इससे आपके शरीर को तुरंत फायदा होगा। इसके अलावा, ऐसा तभी करें जब आपका पेट बहुत संवेदनशील हो। ग्रीन टी बनाने के लिए पानी को ज्यादा गर्म न करें। इससे आवश्यक विटामिन नष्ट हो जाते हैं। सर्वोत्तम परिणामों के लिए, पानी गर्म करें और इसे 10 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर हरी चाय का एक पैकेट काट लें, इसके ऊपर गर्म पानी डालें और इसे 1 मिनट के लिए छोड़ दें। ग्रीन टी और पानी के मिश्रण के बाद पियें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here