विज्ञान महोत्सव से ममता की दूरी पर राज्यपाल ने जताया खेद

0

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने यहां आयोजित पांचवें भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के समापन समारोह में शुक्रवार को प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की गैर-मौजूदगी पर खेद जताया और कहा कि प्रदेश सरकार अगर इस आयोजन में दिलचस्पी लेती, सहयोग देती और उपस्थित होती तो मेरा मन ज्यादा खुश होता। भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव से ममता बनर्जी के दूरी बनाए रखने पर चिंता जताते हुए राज्यपाल ने कहा कि हर बात में राजनीति नहीं होनी चाहिए।

उन्होंने कहा, “राजनीति केवल चुनाव के समय पर ही होनी चाहिए। बहुत अच्छा होता अगर पश्चिम बंगाल सरकार इस आयोजन में दिलचस्पी लेती, सहयोग देती और उपस्थित होती। मुझे अच्छा लगता।”

उन्होंने कहा कि हर चीज को राजनीति के चश्मे से देखना ठीक नहीं है।

सिटी ऑफ जॉय कोलकाता में विज्ञान महोत्सव के आयोजन को ऐतिहासिक पल मानते हुए राज्यपाल धनकड़ ने कहा कि इस मौके पर आयोजित कार्यक्रमों में देश ही नहीं, विदेशों से भी लोग पहुंचे।

उन्होंने कहा कि ज्ञान-विज्ञान की प्रगति से ही देश का विकास होता है, और इसके बिना प्रगति संभव नहीं है।

उन्होंने इस मौके पर मोदी सरकार के कार्यो की सराहना करते हुए कहा, “2014 के बाद देश में परिवर्तन आया है और ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में देश प्रगति के पथ पर अग्रसर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया में भारत का मान बढ़ाया है।”

राज्यपाल धनखड़ चार दिवसीय भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव-2019 के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित थे।

इस मौके पर केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि विज्ञान महोत्सव के दौरान 28 तरह की गतिविधियों में देश के 706 जिलों से आए प्रतिनिधियों ने किसी न किसी रूप में हिस्सा लिया।

इसके अलावा छह देशों के वरिष्ठ प्रतिनिधियों व मंत्रियों ने भी इस महोत्सव में हिस्सा लिया, जिनमें भूटान, मालदीव, म्यांमार, दक्षिण कोरिया और ब्रिटेन के प्रतिनिधि शामिल थे।

उन्होंने बताया कि इस मौके पर तीन गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड बनाए गए, जबकि पिछले साल दो ही गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड बने थे।

हर्षवर्धन ने कहा कि भारत विज्ञान के क्षेत्र में आज दुनिया में किसी भी देश से पीछे नहीं है, बल्कि कुछ मामले में भारत के वैज्ञानिक सबसे आगे हैं।

उन्होंने कहा, “हमारे देश के वैज्ञानिक आज सुनामी आने से पहले ही इसका अनुमान लगा लेते हैं और भारत इसमें नंबर वन है।”

उन्होंने कहा कि बीते दिनों चक्रवाती तूफान फेनी के आने से 14 दिन पहले ही इस संबंध में चेतावनी दे दी गई थी, जिसकी सराहना दुनिया के देशों ने की।

हर्षवर्धन ने कहा कि भारत के उत्तरी, पूर्वी, दक्षिणी, और मध्य क्षेत्र में विज्ञान महोत्सव का आयोजन होने के बाद अब अगले साल देश के पश्चिमी हिस्से में इसका आयोजन होगा।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleभारत के नए मानचित्र को लेकर नेपाल में प्रदर्शन, नेपाली विद्यार्थियों ने भारतीय दूतावास के सामने जलाया नक्शा
Next articleबॉलीवुड के इन स्टार्स ने लिए बच्चे गोद, कायम की इंसानियत की मिसाल
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here