सरकार ने दिया शेयर बाजार को दिवाली का तौहफा

0
205

जयपुर। सरकार के मंदी से निपटने के उपायों के चलते की गई जीएसटी मीटिंग की सिफारिसों ने भारतीय शेयर बाजार में एक नई जान फूंक दि है। जीएसटी कांउसिल की मीटींग और सरकार के समर्थन के चलते शेयर बाजार आगामी समय को काफी बेहतर होते देख रहा है।

आपको बता दें,मौजूदा घरेलू कंपनियों के लिए कॉर्पोरेट कर की दर को 35 प्रतिशत से घटाकर 25 प्रतिशत करने और 1 अक्टूबर के बाद स्थापित नई कंपनियों के लिए 15 प्रतिशत की आकर्षक दर को लागू करने से और 2023 से पहले परिचालन शुरू करने सहित कदमों का स्वागत किया गया।

एक ही दिन में सेंसेक्स में 1,921 अंक और निफ्टी में 569 अंकों की बढ़त के साथ निवेशकों ने 6,82,938.6 करोड़ रुपये की कमाई की।हाल की जानकारी के अनुसार सरकार ने लाखों करोडों रुपये के विदेशी निवेश को आकर्षित करने का रोड मैप तैयार कर लिया है जिसके अनुसार आगामी समय भी भारतीय शेयर बाजार के अनुसार काफी अच्छा रहने वाला है। ऐसे में बाजार की तरफ से इसे सरकार के द्वारा दिया गया दिवाली गिफ्ट माना जा रहा है।

चालू वित्त वर्ष 2019-20 में एफआईआई ने 30,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया है। जो कि अपेक्षा से काफी कम है  लेकिन बाजार को घरेलू संस्थागत निवेशकों से पर्याप्त समर्थन मिला है। घरेलु निवेशकों ने 1 अप्रैल 2019 से 50,000 करोड़ रुपये से अधिक का बाजार निवेश या बिक्री की है। 30 शेयरों वाला बीएसई बेंचमार्क 38,000 के स्तर से ऊपर बंद हुआ और निफ्टी 11,270 के स्तर पर चढ़ गया।

गौरतलब है कि सरकार ने कॉर्पोरेट सेक्टर को दि गई राहत उन क्षेत्रों को फायदा पहुंचाने में असमर्थ है जो सीधे तौर पर मंदी से परेशान हैं। ऐसे में सरकार का निष्ठुर रवैया इऩ क्षेत्रों की हालत खराब कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here