चीन—पाकिस्तान की मिलीभगत से,गिलगिट और बाल्टिस्तान की सोने की खदानों से लूट रहा सोना

0
69

जयपुर।पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस 14 अगस्त को पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर और गिलगित—बाल्टिस्तान के लोगो के साथ एकजुटता का संदेश दिया है।लेकिन इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही है और वो इसके बिल्कुल विपरित है।

पाकिस्तान की इमरान खान सरकार के इशारे पर चीनी कंपनियां गिलगित-बाल्टिस्तान इलाके में प्राकृतिक संसाधनों को लूट रही है।चीनी कंपनियां इस इलाके से बेशकीमती प्राकृतिक संसाधन को लूटने में जुटी हुई है जिसमें सोना,प्लैटिनम,कोबाल्ट और कीमती रत्न जैसे कीमती रत्न जैसे कीमती धातुएं शामिल है।


पाकिस्तान और चीन मिलकर इस इलाके से बडे पैमाने पर यहां के प्राकृतिक संसाधनों को लूटने का काम कर रहे है। जिसके विरोध में यहां के लोगो ने पिछले दिनों सड़कों पर भारी विरोध-प्रदर्शन किया था।लेकिन पाकिस्तान और चीन की तरफ से इसका विरोध करने वाले कई नेताओं की आवाज को दबाने की भी कोशिश की जा रही है।

यहां के निवासी शौकत कश्मीरी और मुमताज खान सहित कई नेताओ ने विदेशी कंपनियो को खनन का आंवटन करने के पाकिस्तान के फैसले पर चिंता व्यक्त की थी।जिसकी वजह से उन्हें या तो जेल में डाल दिया गया या पीओके से बाहर निकाल दिया गया है।

पीओक का क्षेत्र गिलगित-बाल्टिस्तान एक भारतीय क्षेत्र है,जिसपर पाकिस्तान ने जबरदस्ती कब्जा कर रखा है।यहां पर अक्सर पाकिस्तान से आजादी को लेकर नारे लगते रहते है।यहां के लोग आए दिन सड़को पर उतर कर पाकिस्तान की सरकारके खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते नजर आते है।

हाल के वर्षो में चीन ने गिलगित और बाल्टिस्तान में खनन परियोजनाओ में भारी निवेश किया है।पीओके का यह क्षेत्र चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे परियोजना के लिए महत्वपूर्ण रणनीतिक कनेक्टिविटी भी प्रदान करता है,जिसकी वजह से चीन इस क्षेत्र से जुड़ा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here