गोवा: बीमार सीएम पर्रिकर मुंबई से चलाएंगे गोवा सरकार, जानिए इसके बारे में !

0
659

बताया जा रहा है कि गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर सोमवार की दोपहर इलाज के लिए फिर मुंबई के लीलावती अस्पताल रवाना हुए। पर्रिकर ने अपने राज्य के प्रशासनिक मामलों का प्रभार तीन वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों की समिति के हवाले कर वीडियो कान्फ्रेसिंग के जरिए कैबिनेट बैठक आयोजित करने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने यह भी कहा कि अगर मुंबई अस्पताल के चिकित्सक सिफारिश करते हैं तो पर्रिकर को विदेश में भी भर्ती कराया जा सकता है।

सीएमओ द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, “आज (सोमवार), मुख्यमंत्री आगे की चिकित्सा जांच के लिए मुंबई जा रहे हैं और चिकित्सक की सलाह पर आगे के इलाज के लिए वह विदेश जा सकते हैं।”

दिन भरी चली जद्दोजहद में पर्रिकर ने राज्य में सत्तारूढ़ राजनेताओं, नौकरशाहों और पुलिस अधिकारियों के साथ श्रंखलाबद्ध बैठकें कीं, जहां उन्होंने शासन से संबंधित निर्देश जारी किए।

मुख्य कैबिनेट मंत्रियों के बीच उनसे मिलने पहुंचे नेताओं में गोवा फॉरवर्ड पार्टी के नेता और कृषि मंत्री विजय सरदेसाई और शहरी विकास मंत्री फ्रांसिस डिसूजा शामिल हैं।

इन दोनों मंत्रियों के साथ लोक निर्माण विभाग मंत्री सुदीन धावलीकर एक तीन सदस्यीय समिति का गठन करेंगे, जो मुख्यमंत्री की गैर मौजूदगी में प्रशासनिक फैसले लेगी। सुदीन सोमवार को दिल्ली में ही थे।

मुख्यमंत्री से सोमवार को मिलने वाले एक कैबिनेट मंत्री ने कहा, “आज (सोमवार) को उनसे मिलने वाले कुछ मंत्रियों को उन्होंने बताया है कि कैबिनेट की बैठकें वीडियो कान्फ्रेसिंग के जरिए आयोजित की जाएंगी।”

कला एवं संस्कृति मंत्री गोविंद गावड़े ने मुख्यमंत्री से मिलने के बाद संवाददाताओं को बताया, “तीन सदस्यीय दल को पांच करोड़ रुपये के कार्य को मंजूरी देने की शक्ति होगी, जबकि प्रत्येक मंत्री के पास 50 लाख रुपये के कार्य ठेके को मंजूरी देने का अधिकार होगा।”

पर्रिकर को 15 फरवरी को लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सीएमओ के मुताबिक, उनका हल्के अग्नाशय (पैंक्रियाज) शोथ का इलाज चल रहा है।

पर्रिकर संक्षिप्त बजट भाषण के लिए 22 फरवरी को लौटे थे, जिसके दो दिन बाद उन्हें पानी की कमी और निम्न रक्तचाप के कारण पणजी के समीप गोवा मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

पर्रिकर को एक मार्च को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी और वह पणजी के समीप अपने निजी आवास पर रह रहे हैं।

न्यूज स्त्रोत आइएएनएस


SHARE
Previous articleराशिफल 6 मार्च 2018 जाने कैसा रहेगा आपका आज का दिन
Next articleआज रंगपंचमी में करें हनुमानजी की आरती
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here