रत्नज्योतिष: ग्रहों को मजबूत बनाते हैं ये रत्न, जानिए धारण करने के नियम

0

हर व्यक्ति के जीवन में ज्योतिषशास्त्र और रत्न शास्त्र व कुंडली का विशेष महत्व होता हैं ज्योतिषशास्त्र में रत्नों को खास माना जाता हैं इन रत्नों को ग्रहों की शांति के लिए और उन्हें शाक्तिशाली या मजबूत बनाने के लिए धारण किया जाता हैं ग्रह से संबंधित रत्न धारण करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती हैं Image result for रत्नइन रत्नों को धारण करने के कुछ खास नियम भी होते हैं अगर ​इन नियमों का उल्लंघन किया जाता हैं तो रत्नों के दुष्परिणाम भी जातक को प्राप्त होते हैं।Image result for रत्न वही रत्नों को धारण करने से पहले जातक को अपनी कुंडली का अध्ययन किसी अच्छे ज्योतिष से करवाना चाहिए और उनकी सलाह के बाद ही रत्न धारण करने चाहिए। ग्रहों के लिए रत्न और उन्हें धारण करने की विधि के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं। बता दें कि अगर किसी मनुष्य की कुंडली में सूर्य की महा​दशा चल रही हैं तो उसे रविवार के दिन रिंग फिंगर में माणिक्य रत्न धारण करना चाहिए। रत्न धारण के लिए सूर्योदय का समय सबसे उचित माना जाता हैं। Image result for रत्नवही अगर कुंडली में चंद्रमा की महादशा चल रही हो तो ऐसे व्यक्तियों को मोती धारण करने की सलाह दी जाती हैं मोती धारण करने का सबसे शुभ समय सोमवार का दिन होता हैं सोमवार की शाम अनामिका या कनष्ठिका उंगली में मोती पहन सकते हैं।Image result for रत्न कुंडली में मंगल की महादशा चलने पर मनुष्य को मूंगा पहनना चाहिए। मूंगा पहनने के लिए मंगलवार का दिन उचित होता हैं मंगल के दिन शाम 5 के बाद इसे रिंग फिंगर में पहनना उत्तम हैं।Image result for रत्न

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here