भारत से क्यों कांपते हैं पाकिस्तानी विदेश मंत्री, रक्षा मामलों के विशेषज्ञ ने बताई ये वजह….

0

हाल ही में पाकिस्तान की संसद में कई सरे बड़े खुलासे हुए है जिसमे संबसे नया है उनका पुलवामा को अपनी एक बड़ी उपलब्धि के रूप में गिनना। और इसे पाकिस्तान के कबूलनामे के तोर पर भी देखा जा सकता है कि पुलवामा के आतंकी हमले में उसी का हाथ था। वहीं कुछ दिन पहले अयाज सादिक पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज के नेता यह भी बता था कि अभिनंदन को भारत वापस भेजने से पहले पाकिस्तानी विदेश मंत्री, नेताओं और आर्मी चीफ की हालत कितनी खराब हो गई थी। उन्हें आगे अपने डर के रूप में बताया था कि अगर उन्होंने ऐसा नहीं किया होता तो उस दिन रात 9 बजे भारत हमला कर चूका होता।

हाल ही में हुए एक टीवी प्रोग्राम में आर्मी से रिटायर्डमेजर जनरल जीडी बख्शी जिन्हे रक्षा मामलो का बड़ा जानकर भी माना जाता है ने साफ़ किया की पाकिस्तान इतना क्यों डरता है ? उन्होंने बताया की में सन 1971 की जंग देख चूका हु और उस समय पाकिस्तान ने जो सरेंडर किया था वो अपने आप में सबसे बड़े मास सरेंडर में से एक था। हम साक्षी बने की कैसे एक देश को 14 दिनों के अंदर अंदर दो अलग अलग हिस्सों में बाँट दिया गया था। ये दुसरे विश्वयुद्ध के बाद अब तक सबसे बड़ा सरेंडर था। उस समय हमारे सैनिक बिना कुछ सोचे समझे दूषण के इलाके में 115 किलोमीटर तक अंदर चली गयी थी और ढाका पर कब्ज़ा कर लिया था।

हलाकि उन्होंने ये भी बताया की कैसे उस समय के वहां के गवर्नर जनरल नियाजी बचो की तरह बुरी तरह से रोने लग गए थे। उनकी इस हालत को देख कर उनके स्टाफ ने उन्हें खा की रोईए नहीं आपको नागरिक देख रहे है। इसके जवाब में नियाजी जो पसीने से साणे थे और दर के कारण ऊपर से निचे तक काँप रहे थे ने कहा की हरामजादों ने मरा दिया। यही कारण है की पाकिस्तान अभी भी हमसे उसी तरह से पसीने में सना हुआ कांपते रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here