गजिंदल स्टेनलेस ने मई में किया 12000 टन निर्यात

0

देश में स्टेनलेस स्टील बनाने वाली अग्रणी कंपनियों में शुमार जिंदल स्टेनलेस लिमिटेड (जेएसएल) ने कोरोना काल में भी विदेश व्यापार के क्षेत्र में तेजी से रिकवरी की है। कंपनी ने मई महीने में 12,000 टन स्टेनलेस स्टील का निर्यात किया है और जून में 18000 टन से ज्यादा निर्यात होने की उम्मीद है। जेएसएसएल ने गुरूवार को बताया कि कंपनी ने मई महीने में 12,000 टन से ज्यादा का निर्यात किया, जो कि कंपनी के कुल निर्यात के 40 फीसदी हिस्से से भी अधिक है। कंपनी के मुतातिबक, आमतौर पर यह संख्या 18-20 फीसदी रहती है।

कंपनी को चालू महीने जून में कोविड-19 से पहले की तरह 18,000 टन से ज्यादा निर्यात होने की उम्मीद है।

जेएसएल के प्रबंध निदेशक अभ्युदय जिंदल ने एक बयान में कहा, “हम परिस्तिथि के अनुसार खुद को ढाल रहे हैं। यूरोप और रूस के पारंपरिक निर्यात बाजारों पर हमारा विशेष ध्यान है क्योंकि हमारे अधिकतर निर्यात इन्ही देशों में जाते हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “इसके अलावा, निर्यात में वृद्धि की ²ष्टि से, हम कोरिया और दक्षिण अमेरिका जैसे अन्य बाजारों का भी आंकलन कर रहे हैं। बाजार की स्थिति के अनुरूप, हम अपने परिचालन में उच्चतम स्तर बरकरार कर रहे हैं और हालात में सुधार आने पर हम घरेलू मांग को पूरा करने के लिए भी तैयार रहेंगे।”

मई के पहले सप्ताह में विनिर्माण इकाई के फिर से खुलने के बाद से जेएसएल ने अपने परिचालन में धीरे-धीरे बढ़ोतरी की है। मई के अंत तक, जेएसएल की डाउनस्ट्रीम इकाइयां अपनी स्थापित क्षमता के लगभग 60 फीसदी स्तर पर परिचालन कर रही थीं। इस दौरान कंपनी की उपयोगिता कुल क्षमता का लगभग 40 फीसदी रही।

कंपनी ने कहा कि निर्बाध परिचालन और वस्तुओं के आवागमन को सुगम बनाने के लिए जेएसएल स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रही है।

कंपनी ने कहा कि सरकार द्वारा लॉकडाउन में नियोजित तरीके से ढील देने के साथ सूक्ष्म, लघु और मध्यम उपक्रमों (एमएसएमई) को पुनर्जीवित करने पर ध्यान दिये जाने के मद्देनजर, अगले कुछ महीनों में स्टेनलेस स्टील की घरेलू मांग बढ़ने की उम्मीद है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleXiaomi 12x ऑप्टिकल ज़ूम और 120x डिजिटल ज़ूम के साथ पेश करेगा नया स्मार्टफोन: रिपोर्ट
Next articleMITRON App की फिर से Google Play Store पर वापसि हुई
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here